मोदी सरकार का नोट बंद करने का फैसला स्वार्थपूर्णः मायावती

मोदी सरकार का नोट बंद करने का फैसला स्वार्थपूर्णः मायावतीमायावती मुखिया, बहुजन समाजवादी पार्टी (BSP)

लखनऊ। बहुजन समाजवादी पार्टी (BSP) की मुखिया मायावती ने केंद्र सरकार द्वारा बंद किये गये 500 और 1000 के नोट के फैसले पर कॉन्फ्रेंस करके हमला बोलते हुए कहा है कि नरेंद्र मोदी की नियत ठीक नहीं है। उन्होंने ने कहा कि इससे पहले सरकार को कालेधन की चिंता क्यों नहीं हुई।

उन्होंने पूछा कि आखिर क्यों ढाई साल के बाद केंद्र सरकार को कालेधन की याद आयी है और उसने नोट बंद करने का फैसला किया है? मायावती ने नरेंद्र मोदी सरकार पर टिप्पणी करते हुए कहा कि सरकार का यह निर्णय स्वार्थ से परिपूर्ण है।

उन्होंने कहा कि इनके चाल, चरित्र और नीयत में कोई परिवर्तन नहीं आया है। मोदी सरकार ने अपने कार्यकाल के ढाई साल पूरे कर लिये हैं, लेकिन इतने समय में भी सरकार ने चुनाव से पूर्व किये गये अपने वादों में से एक चौथाई भी पूरा नहीं किया है।

मायावती ने कहा कि मोदी ने देश में इमरजेंसी जैसा माहौल बना दिया है। देश में लोग गरीबी और बेरोजगारी से परेशान हैं। देश की सीमाएं असुरक्षित हैं। ऐसे समय में देश में अघोषित आर्थिक इमरजेंसी लगा दी है।

मायावती ने आरोप लगाया कि ऐसी चर्चा देश में आम है कि नरेंद्र मोदी पूंजीपतियों की मदद करती है, उसे आम जनता से कोई लेना-देना नहीं है। सरकार पर RSS का दबाव है और जनता उनसे मायूस है।

Share it
Top