इंफोसिस का शुद्ध लाभ तीसरी तिमाही में सात प्रतिशत बढ़कर 3,708 करोड़ रुपए हुआ

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   13 Jan 2017 11:07 AM GMT

इंफोसिस का शुद्ध लाभ तीसरी तिमाही में सात प्रतिशत बढ़कर 3,708 करोड़ रुपए हुआदेश की दूसरी सबसे बड़ी साफ्टवेयर कंपनी इंफोसिस।

बेंगलुरु (भाषा)। देश की दूसरी सबसे बड़ी साफ्टवेयर कंपनी इंफोसिस का एकीकृत शुद्ध लाभ चालू वित्त वर्ष की अक्तूबर-दिसंबर तिमाही में सात प्रतिशत बढ़कर 3,708 करोड़ रुपए रहा।

दिग्गज आईटी कंपनी ने चालू वित्त वर्ष के लिए आय के बारे में अनुमान को संशोधित कर 8.4 से 8.8 प्रतिशत किया है जो पहले 8 से 9.0 प्रतिशत था।

बेंगलुरु की कंपनी का शुद्ध लाभ इससे पूर्व वित्त वर्ष 2015-16 की इसी तिमाही में 3,465 करोड़ रुपए था। कंपनी की एकीकृत आय तीसरी तिमाही में 8.6 प्रतिशत बढ़कर 17,273 करोड़ रुपए रही जो एक वर्ष पूर्व 2015-16 की इसी तिमाही में 15,902 करोड़ रुपए थी। इंफोसिस के परिणाम के बाद उसका शेयर बीएसई में शुरुआती कारोबार में 0.61 प्रतिशत टूटकर 993.95 पर पहुंच गया।

इंफोसिस के मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) तथा प्रबंध निदेशक विशाल सिक्का ने कहा, ‘‘तिमाही के दौरान मौसमी और अन्य चुनौतियों को देखते हुए आय के लिहाज से प्रदर्शन हमारी उम्मीद के अनुरुप है।''

हमारा कर्मचारियों के कंपनी से जुड़ाव बढ़ाने की दिशा में प्रयास जारी है और इससे छोड़कर जाने वाले लोगों की संख्या में कमी आई है, तिमाही के दौरान हमले 77 नए ग्राहक बनाए। साथ ही दो ग्राहक 7.5 करोड़ डालर से अधिक आय श्रेणी में जोड़े गए।
यूबी प्रवीण राव मुख्य परिचालन अधिकारी इंफोसिस

इंफोसिस ने रविकुमार एस को उप-मुख परिचालन अधिकारी नियुक्त किया है जो राव को रिपोर्ट करेंगे। उनकी नियुक्ति तत्काल प्रभाव से लागू हो गई है, डालर के संदर्भ में इंफोसिस का शुद्ध लाभ 4.4 प्रतिशत बढ़कर 54.7 करोड़ डालर रहा जबकि आय छह प्रतिशत बढ़कर 2.5 अरब डालर रही।

चालू वित्त वर्ष की अक्तूबर-दिसंबर तिमाही के दौरान कंपनी ने कर समेत अंतरिम लाभांश 3,029 करोड़ रुपए दिया। इंफोसिस के कर्मचारियों की संख्या दिसंबर तिमाही के अंत में 1.99 लाख रही जो सितंबर तिमाही से मामूली रूप से कम है।

कंपनी की नकद और नकद समतुल्य संपत्ति, बिक्री के लिए उपलब्ध वित्तीय संपत्ति तथा सरकारी बांड दिसंबर 2016 को समाप्त तिमाही में 35,697 करोड़ रुपए रही जो 30 सितंबर 2016 को 35,640 करोड़ रुपए थी।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top