बांग्लादेशी हिंदुओं ने व्हाइट हाउस के सामने किया प्रदर्शन 

बांग्लादेशी हिंदुओं ने व्हाइट हाउस के सामने किया प्रदर्शन व्हाइट हाउस

वाशिंगटन (भाषा)। बांग्लादेशी हिंदुओं ने अमेरिका के निवर्तमान राष्ट्रपति बराक ओबामा से यह अपील करने के लिए व्हाइट हाउस के सामने शांतिपूर्ण प्रदर्शन किया कि वह मुस्लिम बहुल देश में धार्मिक अल्पसंख्यकों के उत्पीड़न को समाप्त करने और अल्पसंख्यकों की रक्षा करने में मदद करें।

प्रदर्शनकारियों द्वारा ओबामा को कल सौंपे गए एक ज्ञापन पत्र में कहा गया है, ‘‘हमारा मानना है कि आप एक बहुत संवेदनशील एवं दृढ संकल्प व्यक्ति हैं और आपको बांग्लादेश में अल्पसंख्यक समुदायों की स्थिति दर्दनाक प्रतीत होगी। हम आपसे अनुरोध करना चाहते हैं कि यदि संभव हो सके, तो आप बांग्लादेश संबंधी हमारी चिंता से आगामी प्रशासन को अवगत कराएं।''

हिंदू बुद्धिस्ट क्रिश्चियन यूनिटी कौंसिल, यूएसए द्वारा आयोजित इस प्रदर्शन में प्रदर्शनकारियों ने अपराधियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने या पीड़ितों के बचाव में आगे आने में बांग्लादेश सरकार की कथित निष्क्रिय भूमिका पर गहरी चिंता व्यक्त की। ज्ञापन पत्र में कहा गया है, ‘‘हिंदू मकानों और मंदिरों को तोड़ना, हिंदू जमीनों को हड़पना और कभी कभी हत्या और बलात्कार आजकल बांग्लादेश में आम बात है। दरअसल, हालिया सप्ताहों में, पहले से सोच समझकर किए गए दो और हमलों की खबरों का दस्तावेजीकरण किया गया जिनमें सत्ता पर काबिज दल की संलिप्तता थी और प्राधिकारियों ने पीड़ितों और उनके परिजन की मदद करने के लिए कोई कदम नहीं उठाए।'' संगठन ने पिछले महीने न्यूयार्क के ट्रंप टॉवर्स के सामने भी ऐसा ही प्रदर्शन किया था।

प्रदर्शनकारी सीतांगशु गुहा ने कहा, ‘‘नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई के लिए कोष जुटाने की खातिर चुनाव से पहले एक धर्मार्थ समारोह में भाग लिया था। बांग्लादेशी हिंदू आतंकवाद के पीड़ित हैं। मुझे भरोसा है कि वह हमारी चिंता पर भी गौर करेंगे।'' हिंदू अमेरिकन फाउंडेशन के जय कंसारा ने कहा कि बांग्लादेश को आईएसआईएस के चंगुल में फंसने से बचाना सबसे महत्वपूर्ण प्राथमिकता है।

उन्होंने महिलाओं और बच्चों समेत प्रदर्शनकारियों के समक्ष संक्षिप्त संबोधन में कहा, ‘‘क्योंकि यदि बांग्लादेश अतिवाद के चंगुल में फंस जाता है तो वह वहां से निकल नहीं पाएगा।'' हिंदू बौद्ध ईसाई एकता परिषद, अमेरिका के अध्यक्ष नाबेंदु विकास दत्त ने कहा, ‘‘बांग्लादेश इस आस के साथ पाकिस्तान से मुक्त हुआ था कि यहां कोई साम्प्रदायिक ताकत नहीं होगी, लेकिन पिछले सात वर्षों में हमने देखा है कि बांग्लादेश में अल्पसंख्यकों पर हमलों के 273 मामले दर्ज किए हैं।''

बांग्लादेश में पिछले दिनों धर्मनिरपेक्ष लोगों, उदारवादी कार्यकर्ताओं और धार्मिक अल्पसंख्यकों की हत्या के कुछ मामले हुए हैं। संदिग्ध इस्लामवादियों के हमले में मारे गए लोगों में धर्मनिरपेक्ष ब्लॉगर, समलैंगिक अधिकार कार्यकर्ता और विभिन्न अल्पसंख्यक धर्मों के अनुयायी शामिल हैं। जुलाई में एक बांग्लादेशी कैफे में आतंकवादियों के हमले में एक भारतीय लड़की सहित 22 लोग मारे गए थे।

Share it
Top