अब बार-बार नोट बदलने को लाइन में लगने वालों की होगी पहचान, बैंकों ने शुरु किया स्याही का इस्तेमाल

अब बार-बार नोट बदलने को लाइन में लगने वालों की होगी पहचान, बैंकों ने शुरु किया  स्याही का इस्तेमालएसबीआई की 11 शाखाओं ने अमिट स्याही का इस्तेमाल शुरु किया है। इस स्याही से बार-बार नोट बदलने वालों की होगी पहचान।

नई दिल्ली (भाषा)। बड़े नोटों पर प्रतिबंध के बाद उन्हें बदलवाने के लिए लोगों की बार बार बैंक आने की चाल पर रोक लगाने के लिए कुछ शहरों में बैंकों ने अमिट स्याही का इस्तेमाल आज शुरु कर दिया। दिल्ली में एसबीआई और कुछ अन्य बैंकों ने नोट बदलवाने के लिए आने वालों के दांये हाथ की तर्जनी पर नहीं मिटने वाली स्याही लगानी शुरु की।

सरकार ने नोटों की अदला बदली करवाने में कई गिरोहों के सक्रिय होने की रपटों के बाद यह कदम उठाया है। ऐसी रपटें थीं कि ऐसे गिरोह के सदस्य बार-बार कतारों में लगकर नोट बदलवा रहे हैं। इससे वास्तविक जरुरतमंदों को परेशानी हो रही है और वे नोट नहीं बदलवा पा रहे। सरकारी बयान के अनुसार एसबीआई की 11 शाखाओं ने अमिट स्याही का इस्तेमाल शुरु किया है ताकि नोट बदलाने की लाइन में लगे फर्जी लोगों को दूर किया जा सके।

इस प्रक्रिया के तहत नोट बदलवाने की प्रक्रिया में सम्बद्ध बैंक शाखा व डाकघर ग्राहक के दांये हाथ की तर्जनी पर अमिट स्याही लगाएगा। इससे यह तय रहेगा कि अमुक ग्राहक एक बार नोट बदला चुका हैं उल्लेखनीय है कि सरकार ने 8 नवंबर को 1000 और 500 रुपये के मौजूदा नोटों को चलन से बाहर कर दिया। रिजर्व बैंक ने एक बयान में कहा है कि यह प्रक्रिया महानगरों से शुरु की गई। जल्द ही इसे अन्य इलाकों में लागू किया जाएगा।

Share it
Share it
Share it
Top