फोड़ी जा रही हैं गुल्लक, निकाला जा रहे पुराने नोट

फोड़ी जा रही हैं गुल्लक, निकाला जा रहे पुराने नोटबच्चों की गुल्लक में भी शामिल 500 और 1000 के नोट। गृहणियां भी घर के कोनों में तलाश रहीं हैं जमा किए पुराने नोट। फोटो : प्रतीकात्मक

रिपोर्टर- सुधा पाल

लखनऊ। कालेधन और भ्रष्टाचार को देश के बाहर का रास्ता दिखाने के प्रयास से 500 और 1000 के पुराने नोटों को प्रधानमंत्री द्वारा बंद करने पर घरों में भी पुराने नोट खंगाले जा रहे हैं। बच्चों की गुल्लक तोड़ी जा रही है जिसमें 500 और 1000 के पुराने नोट निकल रहे हैं। इन पुराने नोटों को पूरी तरह से घर से निकालने के लिए बच्चों के साथ गृहणियां भी अपना चुरौधा (चोरी छुपे गृहणियों द्वारा घरखर्च के लिए जमा किया गया धन) गुल्लकों से निकाल रहीं हैं जिनमें ज़्यादातर 500 और 1000 के नोट पाए जा रहे है। इस दौरान 10 रुपए के सिक्के अब सहजता से बाजार में चल रहे हैं।

मंगलवार को रात बारह बजे से 500 और 1000 के पुराने नोट के इस्तेमाल पर अचानक लगी पाबंदी से आम जनता थोड़ी परेशानी ज़रूर हो रही है। लोग घरों में रखे कैश को निकालने की तैयारी में जुट गए हैं। जहां बड़े बुज़ुर्ग अपने कपड़ों से लेकर लॉकर तक चेक करके बंद हुए पुराने नोट निकाल रहे हें, वहीं बच्चों में भी प्रधानमंत्री के इस बड़े फैसले से सतर्कता दिख रही है। बच्चे भी अपने जमा किए हुए पैसों में 500 और 1000 के नोट निकालने के लिए गुल्लक तोड़ रहे हैं। गुल्लक छोटी हो या बड़ी, सबमें 500 या 1000 के नो़ट ज़रूर मिल रहे हैं। बच्चों की गुल्लक टूटने पर पता चल रहा है कि उनके पास भी इन बंद हुए नोटों का अच्छा खासा जमावड़ा है। टूटी गुल्लक से एक हज़ार से लेकर कम से कम तीन हज़ार तक रुपए निकल रहे हैं जिनमें 500 के नोट भी हैं।

आज ही मेरी बेटी ने अपना गुल्लक तोड़ी है। उसकी गुल्लक से पता चला कि इस समय मेरी जेब से ज़्यादा उसकी गुल्लक में पैसे जमा थे। आज वह मुझसे भी धनी है। उसकी गुल्लक से लगभग 2500 रुपए निकले। इसके अतिरिक्त 1500 रुपए और निकले जिसमें से 500 और 1000 के नोट भी थे।
सुनील कुमार, निजी कंपनी में एग्जीक्यूटिव, इंदिरा नगर

गृहणियां भी निकाल रहीं चुरौधा

जहां बच्चे अपने जमा पैसों के गुल्लक को तोड़ रहे हैं वहीं घर को बजट में चलाने वाली गृहणियां भी अपनी जमा किए गए पैसों को घर के हर कोने से निकालने में लग गईं हैं। गृहणियां अक्सर घरखर्च के लिए दिए जाने वाले पैसों में कुछ पैसे चोरी छुपे बचाकर अपने पास जमा कर लेती हैं। कहीं किचन के डिब्बों में तो कहीं उनके बड़े से गुल्लक में ये पैसे जमा होते हैं। लेकिन राष्ट्रहित में प्रधानम‍ंत्री नरेन्द्र मोदी के उठए गए इस फैसले से गृहणियां भी जमा किए गए पैसों को निकाल कर बाहर कर रहीं हैं। उनकी गुल्लक भी टूट रही है। उनके गुल्लक से भी लगभग पांच-छह हज़ार तक रुपए निकल रहे हैं। इन जमा पैसों में 100, 500 और 1000 के नो़ट पाए जा रहे हैं।

कल तक जो लोग 10 रुपये का सिक्का लेने में न नुकर कर रहे थे, उनको इससे अब कोई फर्क नहीं पड़ता है। 10 घंटे की दुकानदारी में 500 रुपये के सिक्के निकल गये हैं।
राजू, पान विक्रेता, रिंग रोड सेक्टर-19

नोटों की पाबंदी पर चमक उठा 10 का सिक्का

10 रुपए के नकली सिक्के आने और उनके बंद होने की अफवाह सोशल मीडिया पर वायरल होने की वजह से जहां अफ़रा तफरी मची थी वहीं इस समय ये सिक्के धड़ल्ले से चल रहे हैं। लगभग दो महीने पहले इन सिक्कों को लोग संदेह भरी नजरों से देखते थे कि कहीं यह बाजार में चलेगा भी या नहीं। इतना ही नहीं दुकानदारों, सफाईकर्मचारियों से लेकर साधारण रिक्शाचालक और ऑटोचालक भी 10 रुपए के सिक्के लेने से सीधा मना कर देते थे। जिसकी वजह से लोगों के पास 10 रुपए के सिक्के जमा होने से उन्हें काफी समस्या होती थी। आज वही अफवाही सिक्के 500 और 1000 के पुराने नोट बंद होने की वजह से एकदम से बाज़ार में बढ़ गए हैं। ग्राहक 50-60 रुपए का सामान खरीदने पर 10 रुपए के सिक्के थमा रहे हैं तो दुकानदार भी आसानी से 10 के सिक्के ले रहे हैं।

Share it
Top