सात दिनों में पकड़ा हथियारों का जख़ीरा

Arvind ShukklaArvind Shukkla   14 Jan 2017 2:32 PM GMT

सात दिनों में पकड़ा हथियारों का जख़ीरापुलिस के मुताबिक बरामद हथियारों का इस्तेमाल चुनाव के दौरान हो सकता था।

लखनऊ। पश्चिमी यूपी के कैराना में पकड़े गए हथियारों को पिछले कुछ वर्षों में पकड़ी गई सबसे बड़ी हथियारों की खेप बताई जा रही हैं, वहीं पिछले एक हफ्ते में मेरठ, मथुरा, कुशीनगर, अमरोहा, शाहजहांपुर, बांदा, बाराबंकी और अमरोहा समेत एक दर्जन जिलों से भारी मात्रा में हथियार बरामद हुए हैं। पुलिस के मुताबिक बरामद हथियारों का इस्तेमाल चुनाव के दौरान हो सकता था।

हथियार बिहार के मुंगेर और नेपाल से तस्करी कर लाए जाते हैं। सीमावर्ती इलाकों से इन्हें यूपी के दूसरे हिस्सों से लेकर पंजाब तक भेजा जाता है। जबकि कई जिलों में स्थानीय स्तर पर भी हथियार बनाने की फैक्ट्री पकड़ी गई हैं। शुक्रवार को बांदा जिले में अवैध हथियार फैक्ट्री पकड़ी गई। जिले के एसपी डॉ. श्रीपति मिश्र ने बताया कि हथियार बनाने वाले औजारों के साथ दो आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। इससे पहले गुरुवार को बदायूं के उसहैत थाना इलाके में पुलिस जंगल में चलाई जा रही फैक्ट्री पकड़ी। इसे एटा जिले में रहने वाला एक बदमाश चला रहा था।

इसके अलावा गुरुवार को ही शाहजहांपुर की सिधौली पुलिस ने खेत में छापा मारकर एक युवक को तमंचा बनाते गिरफ्तार किया था। एएसपी ग्रामीण रमेश कुमार के मुताबिक, आरोपी के पास के दर्जनभर अधबने तमंचे भी बरामद हुए हैं। मेरठ पुलिस ने भी दो दिन पहले फलवदा इलाके में एक घर पर छापा मारा, जहां बेसमेंट में हथियार बनाने की फैक्ट्री चल रही थी। पुलिस के मुताबिक, पकड़े गए दोनों आरोपी सगे भाई हैं। ये 20 हजार में बंदूक और 4 हजार में तमंचा बेचते थे। वहीं, 11 जनवरी को अमरोहा पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार कर उनके पास आधा दर्जन से ज्यादा तमंचे और बंदूकें बरामद की थी। 10 जनवरी को मऊ पुलिस ने सुरक्षाबलों को सप्लाई किए जाने वाले 9 एमएम और 38 एमएम बोर के प्रतिबंधित कारतूस बरामद किए थे।

फैक्ट्री में बनाते थे अवैध असलहे, दबोचा

बाराबंकी। पुलिस को शुक्रवार को एक बड़ी कामयाबी मिली है। पुलिस ने एक अवैध असलहा बनाने वाली फैक्ट्री को धर दबोचा, जिसका इस्तेमाल आने वाले विधान सभा चुनाव में गलत तरीके से हो सकता था।

बाराबंकी पुलिस ने शुक्रवार को ग्राम दफरपुर थाना कोठी में अवैध असलहा बनाने वाली फैक्ट्री का खुलासा किया, जिसमे दो आरोपी रामसरन निवासी ग्राम दफरपुर थाना कोठी और रूप नारायण निवासी ग्राम चकतारा थाना असंद्रा को धर दबोचा। बाराबंकी पुलिस अधीक्षक सत्येंद्र कुमार सिंह ने बताया कि ये आरोपी अवैध देशी कट्टे और रायफल बनाते थे।

पुलिस की पूछताछ में आरोपी रामसरन और रूप नारायण ने बताया कि वो असलहा बनाने के आरोप में पहले भी कई बार जेल जा चुके हैं। इसमें से आरोपी रामसरन हिस्ट्रीशीटर में शामिल है और इसके ऊपर पहले से थाना कोठी में कई मुक़दमे दर्ज हैं। पुलिस ने आरोपियों के पास कई असलहे भी बरामद किये हैं। पुलिस अधीक्षक सत्येंद्र कुमार ने बताया कि ये असलहे आने वाले विधान सभा चुनाव में गलत तरीके से प्रयोग किये जाते, जिसका खुलासा करके बाराबंकी पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। ये असलहों की सप्लाई बाहर भी करते थे । इन आरोपियों पर कड़ी कार्रवाईकरते हुए पुलिस ने इन्हें गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

दस लीटर अवैध शराब भी बरामद

शुक्रवार सुबह चेकिंग के दौरान सनोली मोड़ नहर के पास 10 लीटर अवैध शराब केसाथ एक आदमी को पुलिस ने पकड़ा गया। हथौंधा चोकी प्रभारी वीपी सिंह ने बताया कि कोटवा सड़क के पास सनोली मोड़ के पास विंद्रा प्रसाद कोटवा निवासी को गिरफ्तार किया।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top