सुरक्षित नहीं दिल्लीः2015 में देश में घटे लेकिन दिल्ली में बढ़े रेप के मामले

सुरक्षित नहीं दिल्लीः2015 में देश में घटे लेकिन दिल्ली में बढ़े रेप के मामलेसुरक्षित नहीं दिल्ली

सुदीप कुमार सिंह

नई दिल्ली। दिल्ली में बढ़ रहे रेप के मामलें रुकने का नाम ही नहीं ले रहें हैं। महिलाओं के साथ बढ़ते जा रहें ऐसे दुष्कर्म हर साल एक अलग ही आंकड़ें छू रहें हैं, ऐसे में शुक्रवार को दिल्ली में ऐसी ही एक और वारदात को फिर से अंजाम दिया गया। हालांकि देश में रेप के मामलों में कुछ कमी दर्ज की गई है।

शुक्रवार को जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में बीए की दूसरे वर्ष की 21 वर्षीय छात्रा के साथ दक्षिणी दिल्ली में हुए दुष्कर्म की खबर सामनें आई हैं। बताया जा रहा है कि यह घटना ग्रीन पार्क इलाके की है जिसे दो अफगान नागरिको नें अंजाम दिया हैं।

पुलिस अधिक्षक नें बताया कि पीड़िता की मुलाकात अफगान नागरिक तवाब अहमद उर्फ सलीम (27 वर्ष) से हुई जो अपनें दोस्त सुलेमान अहमदी (31 वर्ष) के साथ शरणार्थियों के संरा उच्चायुक्त के कार्ड पर भारत में रह रहा है, जब वह अपनी दोस्त के साथ दिल्ली के होज़ खास पब में गई थी। पुलिस के मुताबिक सलीम ने पीड़िता को अपने घर पार्टी में बुलाया था। अधिकारी ने बताया, ''जब वह सलीम के घर पहुची तब वहॉं पर सलीम के तीन दोस्त और मौजूद थे सुलेमान, प्रत्यूशा और सिद्धार्थ। पीड़िता अपनी दोस्त को वापस जेएनयू छोड़ के सलीम के घर चली गई और वहॉ उन सब ने शराब भी पी। जब पीड़िता को होश आया तो उसे एहसास हुआ कि सुलेमान उसके साथ ज़बरदस्ती कर रहा है, और फिर बाद में उसे महसूस हुआ कि बेहोशी की हालत में उसके साथ यौन उत्पीड़न किया गया है।''

पीड़िता वापस जेएनयू आई और अपने दोस्तो को बताया। पीड़िता ने फौरन सफदरजंग एन्कलेव पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई और उसे चिकित्सा परीक्षण के लिए निकट के अस्पताल ले जाया गया। पुलिस ने पीड़िता की शिकायत पर भारतीय दंड संहिता की धारा 376 (आईपीसी) के तहत मामला दर्ज कर लिया है और दोनो अरोपियों को न्यायिक हिरासत में ले लिया है।

अब दिल्ली में ऐसी घटनाए आम होती जा रही हैं, अगर हम पिछले तीन वर्षों में दिल्ली में हुए बालात्कार के मामलों पर नज़र डालें तो इसमें लगातार बढ़ोतरी देखने को मिली है। एनसीआरबी के आंकड़ों के अनुसार दिल्ली में वर्ष 2013 में कुल 1,441 रेप के मामलें सामने आए थे, जबकि वर्ष 2014 में ये बढ़कर 1,831 हो गए और वर्ष 2015 में 2,199 रेप के मामले सामने आएं हैं।

पिछले तीन वर्षों में दिल्ली में हुए रेप के मामले

वहीं अगर हम पिछले छह वर्षों में भारत में हुए बालात्कार के आंकड़ों पर नज़र डालें तो, एनसीआरबी के अनुसार वर्ष 2010 से 2014 के बीच में इसमें काफी बढ़ोतरी देखने को मिली है, हालांकि वर्ष 2015 और 2016 में इसमें कुछ गिरावट आई है।

पिछले छह वर्षों में भारत में हुए रेप के मामले

Share it
Top