सांड को करतब संबंधी सूची से बाहर किया जाए : द्रमुक

सांड को करतब संबंधी सूची से बाहर किया जाए : द्रमुकपोंगल के अवसर पर मदुरै के कैरीसालकुलम गाँव में लोकप्रिय प्राचीन खेल जलीकट्टू पर कोर्ट से 

चेन्नई (भाषा)। द्रविड़ मुनेत्र कषगम (द्रमुक) ने आज मुख्यमंत्री ओ पन्नीरसेल्वम के इस बयान का स्वागत किया कि राज्य सरकार जल्लीकट्टू होने देने के वास्ते क्रूरता रोकथाम अधिनियम में संशोधन के लिए अध्यादेश जारी करेगी। पार्टी ने इस बात पर बल दिया कि केंद्र द्वारा सांड को पाबंदी सूची से निकाल दिया जाना चाहिए ताकि यह खेल राज्य में हर साल आयोजित हो।

द्रमुक के कार्यकारी अध्यक्ष और विपक्ष के नेता एम के स्टालिन ने आज कहा कि वह अपनी मांग पर दबाव डालने के लिए अपनी पार्टी के विधायकों एवं सासंदों के साथ यहां उपवास पर बैठेंगे।

उन्होंने जल्लीकट्टू के वास्ते युवाओं और विद्यार्थियों द्वारा हो रहे विशाल प्रदर्शन का जिक्र करते हुए कहा कि इसके फलस्वरुप ही मुख्यमंत्री अध्यादेश पर दबाव डालने के लिए कल दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिले।

उन्होंने कहा कि यह निराशाजनक है कि प्रधानमंत्री ने संकेत दिया कि केंद्र अध्यादेश की घोषणा नहीं कर सकता क्योंकि यह अदालत में विचाराधीन हैं लेकिन मुख्यमंत्री ने घोषणा की है कि राज्य स्तर पर अध्यादेश जारी किया जाएगा जो स्वागतयोग्य है।


Share it
Share it
Share it
Top