राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार के रुप में फ्लिन को चुन सकते हैं ट्रंप 

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार के रुप में फ्लिन को चुन सकते हैं ट्रंप स्पष्ट वक्ता और अपने काम में माहिर खुफिया पेशेवर 56 वर्षीय फ्लिन उन आला सैन्य अधिकारियों में से एक हैं जिन्होंने ट्रंप का समर्थन किया था।

वाशिंगटन (भाषा)। अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अपने विश्वस्त सैन्य सलाहकार लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) माइकल फ्लिन को अपना राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार चुन सकते हैं। फ्लिन ने अफगानिस्तान और इराक में आतंकी नेटवर्क को ध्वस्त करने में अहम भूमिका निभाई थी।

स्पष्ट वक्ता और अपने काम में माहिर खुफिया पेशेवर 56 वर्षीय फ्लिन उन आला सैन्य अधिकारियों में से एक हैं जिन्होंने ट्रंप का समर्थन किया था और बीते एक साल से भी ज्यादा समय से वह उनके सबसे करीबी सैन्य सलाहकार के तौर पर काम कर रहे हैं।

वॉशिंगटन पोस्ट के मुताबिक, ‘‘ट्रंप प्रशासन, जो अभी गठित हो ही रहा है, उसमें राष्ट्रीय सुरक्षा से संबंधित सर्वाधिक महत्वपूर्ण पद सेवानिवृत्त और तीन सितारा प्राप्त जनरल को मिल सकता है, जिन्होंने अफगानिस्तान और इराक में आतंकी नेटवर्कों को ध्वस्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। लेकिन उनके डोनाल्ड ट्रंप के नेतृत्व में सियासी उग्रवाद में शामिल होने से उनके सहकर्मी हैरत में हैं और निराश भी हैं।'' चुने जाने पर वे एनएसए के तौर पर सुजेन राइस की जगह लेंगे।

अगस्त माह में फ्लिन की एक किताब आई थी जिसमें उन्होंने पाकिस्तान को दी जाने वाली मदद बंद करने की वकालत की थी और कहा था मदद जारी रखने का मलतब जिहादियों को फायदा पहुंचाना होगा। पेंटागन की शीर्ष खुफिया एजेंसी डिफेंस इंटेलिजेंस एजेंसी के निदेशक पद से उन्हें वर्ष 2014 में हटा दिया गया था। इसके तुरंत बाद उन्होंने सार्वजनिक तौर पर राष्ट्रपति बराक ओबामा के खिलाफ आवाज बुलंद की थी।

Share it
Share it
Share it
Top