पूर्व सीनेटर, अंतरिक्ष यात्री जॉन ग्लेन का निधन 

पूर्व सीनेटर, अंतरिक्ष यात्री जॉन ग्लेन का निधन तीन बार पृथ्वी की परिक्रमा कर चुके ग्लेन अंतरिक्ष में जाने वाले अमेरिका के तीसरे अंतरिक्ष यात्री थे।

ह्यूस्टन (भाषा)। अमेरिका के पूर्व सीनेटर और अंतरिक्ष यात्री जॉन ग्लेन का ओहायो में निधन हो गया। ग्लेन पृथ्वी की कक्षा में जाने वाले पहले अमेरिकी थे। वह 95 वर्ष के थे।

नासा ने ग्लेन के निधन के तत्काल बाद ट्वीट किया, ‘‘हम पृथ्वी की कक्षा में जाने वाले पहले अमेरिकी जॉन ग्लेन के निधन से दुखी हैं। वह एक सच्चे अमेरिकी नायक थे। ईश्वर जॉन ग्लेन की आत्मा को शांति दे।'' इससे पहले ओहायो स्टेट यूनिवर्सिटी के उस कॉलेज के एक प्रवक्ता ने उन्हें अस्पताल में भर्ती किए जाने की जानकारी दी थी जिस कॉलेज का नाम अमेरिका के इस बुजुर्ग अंतरिक्ष यात्री के नाम पर जॉन ग्लेन कॉलेज रखा गया है।

बाद में जॉन ग्लेन कॉलेज ऑफ पब्लिक अफेयर्स ने अपनी वेबसाइट पर घोषणा की कि ग्लेन का ओहायो में कोलंबस के जेम्स कैंसर अस्पताल में कल निधन हो गया। वह इस अस्पताल में एक सप्ताह से भी अधिक समय से भर्ती थे। पूर्व अंतरिक्ष यात्री कुछ वर्ष पहले आघात होने के बाद से स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से जूझ रहे थे। उनका वर्ष 2014 में हृदय वाल्व प्रतिरोपण ऑपरेशन भी हुआ था। ओहायो स्टेट यूनिवर्सिटी के जॉन ग्लेन कॉलेज ऑफ पब्लिक अफेयर्स के संचार निदेशक हैंक विल्सन ने ग्लेन के निधन की पुष्टि की। तीन बार पृथ्वी की परिक्रमा कर चुके ग्लेन अंतरिक्ष में जाने वाले अमेरिका के तीसरे अंतरिक्ष यात्री थे। वह कक्षा में जाने वाले पहले अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री थे।

ग्लेन मूलत: ‘मर्करी 7' अंतरिक्ष यात्रियों में से एक थे जिनमें से शेष सभी छह अंतरिक्ष यात्रियों का पहले ही निधन हो चुका है। उन्होंने बाद में ओहायो से डेमोक्रेटिक सीनेटर के तौर पर सेवाएं दीं।

ग्लेन ने 20 फरवरी 1962 को जब अंतरिक्ष में जाने के लिए उडान भरी तो वह यात्रा बहुत महत्वपूर्ण एवं तनावपूर्ण थी। उस समय अंतरिक्ष यात्राओं का दौर ही अपने शुरुआती काल में था। उस दौर में अमेरिका में हर प्रक्षेपण और अभियान आकर्षण का केंद्र होता था। उन्होंने दूसरी बार वर्ष 1998 में उस समय इतिहास रचा, जब वह 77 वर्ष की आयु में अंतरिक्ष में गए। तब वह अंतरिक्ष में भेजे जाने वाले सर्वाधिक आयु के व्यक्ति बन गए।

ग्लेन बहुत सम्मानित नौसैनिक थे जिन्होंने द्वितीय विश्व युद्ध में दक्षिण प्रशांत में 59 लड़ाकू अभियानों के तहत उड़ान भरी। उन्होंने कोरियाई युद्ध में नए लड़ाकू विमानों के विभिन्न मॉडलों का इस्तेमाल करके 90 लड़ाकू अभियानों के तहत उड़ान भरी। उन्हें वर्ष 1974 में अमेरिकी सीनेट में ओहायो का प्रतिनिधित्व करने के लिए चुना गया। इसके दो साल बाद अमेरिका के राष्ट्रपति पद के चुनाव में डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जिम्मी कार्टर द्वारा उपराष्ट्रपति चुने जाने वाले संभावित उम्मीदवारों की सूची में ग्लेन भी शामिल थे लेकिन कार्टर ने अंतत: वाल्टर मोंडेल को चुना था। राष्ट्रपति ओबामा ने ग्लेन को वर्ष 2012 में देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘प्रेजीडेंशियल मेडल ऑफ फ्रीडम' से नवाजा था।

Share it
Top