गोवा की राजनीति में वापस लौटने की संभावना पर पूछे गए सवाल से कन्नी काट गए पर्रिकर 

गोवा की राजनीति में वापस लौटने की संभावना पर पूछे गए सवाल से कन्नी काट गए पर्रिकर रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर

पणजी (भाषा)। राज्य विधानसभा चुनाव के बाद गोवा की राजनीति में वापस लौटने की संभावना के बारे में पूछे गए सवालों से रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर शुक्रवार को कन्नी काट गए और कहा, “जब ऐसा होगा तब देखा जाएगा।” गोवा चुनाव के बाद मुख्यमंत्री के रूप में राज्य में वापसी की संभावना के बारे में पूछे जाने पर पर्रिकर ने संवाददाताओं से कहा, “मैं केवल यह कह सकता हूं कि जब समय आएग तब देखा जाएगा। (नितिन) गडकरी जी ने जो कहा है हम वही कहना चाहता हूं।” वह आगामी चुनाव के लिए नामांकन दायर करने जा रहे भाजपा प्रत्याशी सिद्धार्थ कुनकोलिएनकर के साथ थे। सिद्धार्थ पणजी विधानसभा सीट से चुनाव लड रहे हैं।

मैं केवल यह कह सकता हूं कि जब समय आएग तब देखा जाएगा। (नितिन) गडकरी जी ने जो कहा है हम वही कहना चाहता हूं।
मनोहर पर्रिकर, रक्षा मंत्री

लोकसभा चुनाव के बाद केंद्र सरकार में मंत्री बनने से पहले इस सीट से पर्रिकर विधायक रहे थे। गडकरी ने गुरुवार को यहां पर एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा था कि अगला मुख्यमंत्री निर्वाचित प्रतिनिधियों द्वारा एक लोकतांत्रिक तरीके से चुना जाएगा। उन्होंने संवाददाताओं से कहा था, “वह नेता निर्वाचित प्रतिनिधियों में से हो सकता है या केंद्र से (किसी को) भी भेजा जा सकता है।” बार-बार पूछे जाने के बावजूद गोवा के पूर्व मुख्यमंत्री पर्रिकर और उनके कैबिनेट सहयोगी श्रीपाद यशो नाईक का नाम लिए बगैर गुरुवार को गडकरी ने उनमें से किसी एक का नाम का खुलासा करने से इंकार कर दिया।

पर्रिकर ने शुक्रवार को कहा कि सिद्धार्थ पिछले बार की तुलना में इस बार पणजी से भारी अंतर से जीत हासिल करेंगे। उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव में विकास चुनावी मुद्दा होगा। 2012 के 40 सदस्यीय राज्य विधानसभा चुनाव में भाजपा ने 21 सीटों पर जीत दर्र्ज की थी। भाजपा ने राज्य में चार फरवरी को होने वाले चुनाव के लिए अपनी पहली सूची जारी कर दी है।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top