केन्द्र सरकार खोजेगी गाँवों में हुनर, होंगी खेल प्रतियोगिताएं

केन्द्र सरकार खोजेगी गाँवों में हुनर, होंगी खेल प्रतियोगिताएंजरूरतमंद ग्रामीण बच्चों को दिया जाएगा प्रशिक्षण।

नई दिल्ली (भाषा)। केंद्रीय युवा मामले और खेल मंत्री विजय गोयल ने गुरुवार को कहा कि देश में प्रतिभाशाली खिलाड़ियों की पहचान के लिए एक पोर्टल शुरू करने के साथ ही जिलास्तर पर प्रतियोगिताएं आयोजित करने की योजना है। गोयल ने लोकसभा में प्रश्नकाल में कहा कि सरकार देश में खेल प्रतिभाओं की खोज की दिशा में काम कर रही है, जिससे कि जरूरतमंद बच्चों को प्रशिक्षण देकर राष्ट्रीय पर और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ओलंपिक जैसी स्पर्धाओं में शामिल होने के लिए तैयार किया जा सके। उन्होंने कहा कि इसी क्रम में सरकार 2020 के टोक्यो ओलंपिक के लिए भी देश में खिलाड़ियों की खोज और उन्हें प्रशिक्षण की दिशा में काम कर रही है।

उन्होंने कहा कि सरकार एक स्पोर्ट्स टैलेंट सर्च पोर्टल शुरू कर रही है, जिस पर आठ साल से अधिक उम्र के खिलाड़ियों का बायोडाटा और फोटो तथा वीडियो अपलोड किया जा सकता है। ऐसे बच्चों में से प्रतिभाशाली खिलाड़ियों को पहचानकर उन्हें प्रशिक्षण दिलाया जाएगा। गोयल ने हुकुम सिंह तथा तथागत सतपति के प्रश्नों के उत्तर में बताया कि इसके अलावा खेल मंत्रालय मौजूदा वित्त वर्ष 2016-17 से ‘खेलो इंडिया-राष्ट्रीय खेल विकास कार्यक्रम' को लागू कर रहा है। इस योजना में पूरे भारत में 14 साल और 17 साल तक के दो आयु वर्गों' में वार्षिक खेल प्रतिस्पर्धाएं आयोजित करने का प्रावधान है।

प्रतिभाशाली खिलाड़ियों को मिलेगी छात्रवृत्ति

खेल मंत्री विजय गोयल के मुताबिक इसका उद्देश्य ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में खेलों में लड़के- लड़कियों की सामूहिक सहभागिता को बढ़ावा देना और स्पर्धाओं के माध्यम से प्रतिभाशाली खिलाड़ियों की पहचान करने के साथ खेलों के लिए बुनियादी सुविधाओं का निर्माण करना है। उन्होंने कहा कि जिला स्तर पर और उससे आगे के स्तर पर आयोजित प्रतिस्पर्धाओं में चयनित प्रतिभाशाली खिलाड़ियों को 12 महीने की अवधि के लिए छात्रवृत्ति दी जाएगी। इनमें जिलास्तरीय प्रतियोगिताओं में चयनित प्रतिभाओं को 500 रुपए प्रतिमाह, राज्य स्तर पर चयनित बच्चों को 1000 रुपए प्रति महीने और राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिताओं में चुने गये लड़के-लड़कियों को 2000 रुपए प्रति महीने दिए जाने का प्रावधान है।

सरकार देश में बच्चों और युवाओं के समग्र विकास में खेल और शारीरिक शिक्षा की भूमिका को मानती है। इस नीति के तहत सरकार ने शिक्षा के अधिकार कानून के तहत सभी स्कूलों के लिए खेल के मैदानों की सुविधा और खेल प्रशिक्षक की नियुक्ति की दिशा में कदम उठाया है।
विजय गोयल, खेल मंत्री

Share it
Top