नोटबंदी से दिव्यांग परेशान, कैसे निकाले बैंक से रुपये 

Ashwani NigamAshwani Nigam   20 Nov 2016 7:15 PM GMT

नोटबंदी से दिव्यांग परेशान, कैसे निकाले बैंक से रुपये दिव्यांग बैंक से कैसे निकालें नकदी, नहीं है रैंप की सुविधा।

अश्वनी कुमार निगम

लखनऊ। दुबग्गा के रहने वाल 45 साल के बच्चा लाल पिछले दो दिनों से बैंक आफ बड़ौदा ठाकुरगंज शाखा में पैसा एक्सचेंज करने आ रहे हैं, लेकिन वह बैंक के अंदर नहीं जा रहे हैं। वह दिव्यांग हैं और ट्राइसाइकिल पर चलते हैं। बैंक जाने के लिए सीढ़ियां बनी हुई हैं, लेकिन यहां पर कोई रैंप नहीं बना है। ऐसे में इनकी परेशानी बढ़ गई है। यह अकेले सिर्फ इनकी परेशानी नहीं है, बल्कि जब से नोटबंदी हुई है उसके बाद से बैंक में पैसा जमा करने से लेकर निकालने आने वाले दिव्यांगों को ऐसी समस्या का समस्या का सामना करना पड़ रहा है।

हम लोगों की सहायता के लिए कोई नहीं

रिजर्व बैंक आफ इंडिया ने सभी बैंकों में बजुर्ग और दिव्यांगों के लिए अलग से लाइन की व्यवस्था करने का निर्देश दिया है, लेकिन इसके बाद भी अधिकतर बैंकों में इसका पालन नहीं हो रहा है। ऐसे में दिव्यांग अपना पैसा न तो बैंक से निकाल पा रहे हैं और न जमा कर रहे हैं। जिसको लेकर दिव्यांगों में काफी रोष है। चौक के रहने वाले मोहम्मद अनवर बचपन से दिव्यांग हैं। ट्राइसाइकिल से ही वह आना-जाना करते हैं। उनका कहना है कि जब से नोटबंदी हुई है, आम लोगों की कतार ही बैंकों के सामने से खत्म होने का नाम नहीं ले रही हैं। हम दिव्यांग के लिए अलग से लाइन की बात तो है, लेकिन अधिकतर बैंक में प्रवेश के लिए ऊंची-उंची सीढ़ियां बनी हुई हैं। लाइन में लगकर भी हम लोग कैसे बैंक के अंदर प्रवेश करेंगे यह सोचने वाली बात है। हम लोगों की सहायता के लिए बैंक में किसी को लगाया नहीं गया है।

दिव्यांगों के लिए रैंप की नहीं हुई सुविधा

दिव्यांग लोग बिना किसी असुविधा किसी भी कार्यालय में आ जा सकें, इसके लिए सभी सरकारी और निजी कार्यालयों के भवनों के साथ ही बैंकों में भी रैंप बनाने का निर्देश सामाजिक न्याय और अधिकारिता विभाग ने दिया है। इसके बाद भी अधिकतर बैंकों में रैंप की व्यवस्था नहीं है। पहले तो दिव्यांग अपने परिवार के लोगों की मदद से बैंक आकर अपना काम कर लेते थे, लेकिन जब से नोटबंदी हुई है रैंप की जरुरत अधिक महसूस की जा रही है। बैंक वाले चाहकर भी आनन-फानन में रैंप नहीं बनवा सकते। दिव्यांगों की मांग है कि जब तक बैंकों में रैंप नहीं है, उनके लिए कुछ ऐसा इंतजाम किया जाए, जिससे वह बैंक में आसानी से पहुंच सकें।

बैंकों में दिव्यांगों और बुजुर्गां को नोटबंदी के दौरान विशेष सुविधा देने का निर्देश जारी किया जा चुका है। अगर कहीं इन लोगों को दिक्कत आ रही है तो इसका संज्ञान लेकर प्रशासनिक स्तर पर हर संभव एक्शन लिया जाएगा।
सत्येन्द्र कुमार सिंह, जिलाधिकारी, लखनऊ।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top