ग्रामीण बैंकों का किया निरीक्षण, आरबीआई से कम करेंसी आने पर परेशान मिले ग्रामीण

ग्रामीण बैंकों का किया निरीक्षण, आरबीआई से कम करेंसी आने पर परेशान मिले ग्रामीणग्रामीण बैंकों में निरीक्षण के दौरान अधिकारियों को निर्देश देते कृषि उत्पादन आयुक्त प्रदीप भटनागर।

लखनऊ। राजधानी होने के बावजूद ग्रामीण इलाकों में नोटबंदी के दौरान बैंकों के बाहर भीड़ कम नहीं हो रही है। जिसको लेकर राज्य कृषि उत्पादन आयुक्त ने सुलतानपुर रोड पर स्थित ग्रामीण बैंकों का दौरा कर के ग्रामीणों की परेशानी भी सुनी। उन्होंने माना कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया से कम करेंसी भेजे जाने की वजह से ये दिक्कतें सामने आ रही हैं।

नोटबंदी पर जनसमस्याओं का लिया जायजा

कृषि उत्पादन आयुक्त प्रदीप भटनागर ने सोमवार को पांच बैंकों का निरीक्षण कर नोट बदलने और पैसा निकासी में किसानों व जन सामान्य द्वारा महसूस की जा रही समस्याओं का जायजा लिया। कृषि उत्पादन आयुक्त ने सुल्तानपुर रोड पर स्टेट बैंक आफ इंडिया अर्जुन गंज, ऐक्सिस बैंक सरसॉवॉ, देना बैंक अर्जुनगंज, आर्यावर्त ग्रामीण बैंक खुर्दही बाजार और बैंक ऑफ इंडिया मकनपुर का भ्रमण कर लाइनों में खड़े लोगों से भेंट की और उनसे बातचीत की।

बैंक में दिखी लोगों की लंबी कतार

कृषि उत्पादन आयुक्त को मकनपुर में काफी लंबी लाइन मिली, जिसके बारे में बैंक अधिकारियों व लाइन में खड़े लोगों से बात करने पर पता चला कि इस शाखा के खाताधारकों की केवाईसी पूरी न होने के कारण अब उस प्रक्रिया को पूरा कर नोट बदलने व खाते से निकासी की जा रही है। इसी वजह से प्रत्येक ट्रांजेक्शन में समय ज्यादा लगने से लाइन लंबी हो रही है। वहीं, अन्य ब्रांचेज में लाइन सामान्य रूप से ही लंबी पायी गयीं।

रिजर्व बैंक आफ इंडिया को ग्रामीण क्षेत्रों में छोटी नोटों की आपूर्ति बढ़ाने की जरूरत महसूस की जा रही है। जिसके लिए शासन की ओर से बैंक को पत्र लिख कर बेहतर इंतजाम करने संबंधित अनुरोध किया जाएगा।
प्रदीप भटनागर, कृषि उत्पादन आयुक्त

Share it
Share it
Share it
Top