हनुवंतिया टापू पर 15 दिसंबर से शुरू होगा ‘जल महोत्सव’ 

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   13 Dec 2016 11:52 AM GMT

हनुवंतिया टापू पर 15 दिसंबर से शुरू होगा ‘जल महोत्सव’ इंदिरा सागर बांध का हनुवंतिया टापू ‘जल महोत्सव’ 15 दिसंबर से शुरू होगा।

इंदौर (भाषा)। एशिया की सबसे बड़ी मानव निर्मित जल संरचनाओं में गिने जाने वाले इंदिरा सागर बांध का हनुवंतिया टापू ‘जल महोत्सव' के 15 दिसंबर से शुरू होने वाले दूसरे सालाना संस्करण के लिए तैयार है। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान खंडवा जिले में स्थित टापू पर महीनेभर चलने वाली जल पर्यटन गतिविधियों की औपचारिक शुरुआत करेंगे।

मध्यप्रदेश राज्य पर्यटन विकास निगम (एमपीएसटीडीसी) की इंदौर इकाई के क्षेत्रीय प्रबंधक एसके गुप्ता ने बताया कि इस बार ‘जल महोत्सव' का विशेष आकर्षण केरल की तर्ज पर तैयार की गई दो हाउसबोट रहेंगी। तीन-तीन कमरों वाली इन हाउसबोट को इंदिरा सागर बांध के करीब 950 वर्ग किलोमीटर के विशाल जलभराव क्षेत्र में उतारा जाएगा।

गुप्ता ने बताया कि 15 दिसंबर से 15 जनवरी तक चलने वाले ‘जल महोत्सव' के दौरान इस बांध के जलभराव क्षेत्र में क्रूज बोट, मोटर बोट और ‘जल परी' (छोटी क्रूज बोट) भी उतारी जाएंगी। इस टापू पर महीनेभर तक जल क्रीडा गतिविधियों के साथ रोमांचक और साहसिक खेलों का आयोजन होगा।

उन्होंने बताया कि ‘जल महोत्सव' के लिए हनुवंतिया टापू पर एक निजी कम्पनी की मदद से सैलानियों के लिए करीब 125 तंबुओं का गाँव बसाया गया है। नोटबंदी के मद्देनजर वहां पर्यटकों की सुविधा के लिए स्वाइप कार्ड से भुगतान की व्यवस्था भी की गई है।

प्रदेश सरकार हनुवंतिया टापू को जल पर्यटन के बड़े भारतीय केंद्र के रूप में स्थापित करने की कोशिश में जुटी है। इस टापू पर करीब पांच करोड़ रुपए की लागत से जल क्रीडा परिसर और अन्य पर्यटन सुविधाएं विकसित करने के बाद वहां वर्ष 2015 से ‘जल महोत्सव' का सिलसिला शुरू किया गया था।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top