‘इंटेलेक्ट 2017’ में बिजली के स्मार्ट प्रबंधन का होगा प्रदर्शन

‘इंटेलेक्ट 2017’ में बिजली के स्मार्ट प्रबंधन का होगा प्रदर्शनइंडियन इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक्स मैनुफैक्चर्स एसोसिएशन

नई दिल्ली (आईएएनएस)। ग्रेटर नोएडा के इंडिया एक्सपो मार्ट में 23 से 25 जनवरी के बीच होने वाली 'इंटेलेक्ट 2017' में बिजली के स्मार्ट प्रबंधन का प्रदर्शन किया जाएगा। इसमें सोर्स से लेकर सॉकेट, उत्पादन से लेकर उपयोग, ट्रांसमिशन से लेकर डिस्ट्रीब्यूशन और स्मार्ट ग्रिड से आने वाली चुनौती पर चर्चा की जाएगी।

इंडियन इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक्स मैनुफैक्चर्स एसोसिएशन (ईमा) यहां 'इंटेलेक्ट 2017' एवं 'डिस्ट्रीब्यूलेक' का आयोजन कर रही है। इसमें एक साझा मंच के तहत अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रसिद्ध प्रदर्शकों, सलाहकार, व्यापार विशेषज्ञों और प्रमुख सरकारी अधिकारी एक साथ जुटेंगे, जहां वैश्विक सर्वोत्तम प्रथाओं पर चर्चा और आधुनिक बिजली के क्षेत्र में सबसे बड़ी चुनौतियों में से कुछ के लिए समाधान की तलाश की जाएगी।

हम स्मार्ट लिविंग के लिए बिजली को पुनर्परिभाषित करने जा रहे हैं। यह जीवन को आसान बनाने के बारे में है, जिसके तहत बिजली का होशियारी से प्रयोग किया जाता है, जो कि सूचना प्रौद्योगिकी से जुड़ा है। यह स्मार्ट तरीके से रहने के बारे में है।
प्रकाश चंद्राकर, अध्यक्ष, इंटेलेक्ट 2017

उन्होंने कहा, ''इस प्रदर्शनी में किस प्रकार स्वच्छ और किफायती बिजली चौबीसो घंटे उपलब्ध कराया जा सकता है, इसके बारे में जानकारी दी जाएगी। प्रौद्योगिकी में हो रही तेजी से बदलाव और ग्राहकों की बदलती जरूरत के मुताबिक स्मार्ट तकनीक के हर स्तर पर इस्तेमाल को बढ़ावा देना होगा। आज के गतिशील ऊर्जा बाजार में ग्रिड की स्टेबिलिटी को बनाए रखना एक बड़ी चुनौती है। किस प्रकार से बिजली की संरचन हानि को कम से कम किया जा सकता है। इस बारे में यहां जानकारी दी जाएगी।''

उनका कहना है बिजली क्षेत्र का भविष्य विद्युत परिचालन प्रौद्योगिकी के अभिसरण (ओटी) और सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) में है। यह ऊर्जा, ऑटोमेशन, संचार और सॉफ्टवेयर और विश्लेषण को एक साथ लाकर बिजली के बुद्धिमान प्रबंधन के बारे में है।

वहीं, उपभोक्ताओं के मूल्य और प्राथमिकताएं तेजी से बदल रहे हैं। आज, ऊर्जा उपभोक्ताओं का उद्देश्य दक्षता को 30 फीसदी तक बढ़ाने का है। उद्योगों और इमारतों के लिए ऊर्जा कुशल प्रौद्योगिकियों पर ध्यान केंद्रित करने की जरूरत है, जबकि घरों के लिए स्मार्ट उपकरणों को विकसित करने की जरूरत है। इंडियन इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक्स मैनुफैक्चर्स एसोसिएशन पहली आईएसओ सर्टिफाइड उद्योग संगठन है जिसके 800 से ज्यादा सदस्य हैं, जिनमें बिजली उत्पादन, वितरण और इससे जुड़े उपकरण निर्माता शामिल हैं।

इस प्रदर्शनी का आयोजन बिजली मंत्रालय, नेशनल स्मार्ट ग्रिड मिशन (एनएसजीएम), सेंट्रल ब्यूरो ऑफ इरिगेशन एंड पॉवर (सीबीआईपी), नेशनल पॉवर ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट (एनपीटीआई), द इनर्जी एंड रिसोर्स इंस्टीट्यूट (टेरी), इंडिया इनर्जी स्टोरेज एलायंस (आईईएसए) और आईईटी के सहयोग से किया जा रहा है।

Share it
Top