नीरव मोदी के खिलाफ इंटरपोल ने जारी किया रेड कॉर्नर नोटिस, कभी भी हो सकती है गिरफ्तारी

पीएनबी घोटाले मामले में जांच एजेंसियां नीरव के साथ उनके मामा मेहुल चौकसी समेत कई दूसरे लोगों के खिलाफ जांच कर रही हैँ।

नीरव मोदी के खिलाफ इंटरपोल ने जारी किया रेड कॉर्नर नोटिस, कभी भी हो सकती है गिरफ्तारी

नई दिल्ली । 13000 करोड़ रुपये से अधिक के पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) घोटाले के आरोपी जूलरी कारोबारी नीरव मोदी के खिलाफ इंटरपोल ने रेड कॉर्नर नोटिस जारी कर दिया है। संभावना है कि इसके बाद नीरव मोदी की जल्द ही गिरफ्तारी हो सकती है। खबर है कि नीरव मोदी ब्रिटेन में हैं।

इंटरपोल ने नीरव के भाई निशाल मोदी और उनके निकट सयोगी सुभाष परब के खिलाफ भी रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया है। पीएनबी घोटाले मामले में जांच एजेंसियां नीरव के साथ उनके मामा मेहुल चौकसी समेत कई दूसरे लोगों के खिलाफ जांच कर रही हैँ।





इंटरपोल ने नोटिस में अपने सभी 192 सदस्य देशों से कहा है कि अगर वहां नीरव मोदी, निशाल मोदी और सुभाष परब दिखाई दें तो उन्हें तुरंत गिरफ्तार कर लें। इससे पहले सोमवार को ईडी ने नीरव मोदी के प्रत्यर्पण के बारे में विशेष अदालत में अर्जी दी थी इसके बाद अदालत ने ईडी को प्रत्यर्पण की कार्रवाई शुरू करने की अनुमति दे दी। ईडी की ओर से उसके वकील हितेन वेंगावकर ने कहा कि इस आदेश को विदेश मंत्रालय भेजा जाएगा जहां से मंत्रालय इसे ब्रिटिश सरकार को भेजेगा।

पिछले ही हफ्ते विदेश मंत्रालय के अधिकारियों ने सीबीआई व ईडी के अधिकारियों के साथ मीटिंग करके सवाल उठाए थे कि फरवरी में ही पासपोर्ट रद्द होने के बाद भी नीरव मोदी कैसे अलग-अलग देशों में घूम रहा है।

क्या होता है रेड कॉर्नर नोटिस

इंटरपोल या अंतरराष्ट्रीय आपराधिक पुलिस संस्था एक वैश्विक संगठन है जो विभिन्न देशों की पुलिस के बीच सहयोग करके अंतरराष्ट्रीय अपराधियों को पकड़ने में मदद करता है। अपने रेड कॉर्नर नोटिस में इंटरपोल सदस्य देशों को सतर्क करता है ताकि संदिग्धों को पकड़ा जा सके। रेड कॉर्नर नोटिस को संदिग्धों की गिरफ्तारी या उनके प्रत्यर्पण के लिए जारी किया जाता है।

यह भी देखें: राजनीतिक शरण की तलाश में भाग कर ब्रिटेन पहुंचा नीरव मोदी

Share it
Top