दुनिया में मशहूर हरी आंख वाली लड़की पाकिस्तान में गिरफ्तार

दुनिया में मशहूर हरी आंख वाली लड़की पाकिस्तान में गिरफ्तार‘अफगान युद्ध की मोनालिसा’ शरबत बीबी।

इस्लामाबाद (भाषा)। इस हरी आंख वाली लड़की की तस्वीर को देख कर आप मंत्रमुग्ध हो गए होंगे। यह फोटो वर्ष 1984 में पूरी दुनिया में सुर्खियों में थी। तस्वीर वाली लड़की ‘अफगान युद्ध की मोनालिसा' नाम से प्रसिद्ध थी। इस लड़की को कल संघीय जांच एजेंसी (एफआईए) ने पेशावर शहर में गिरफ्तार कर लिया।

वेबसाइट डॉन ऑनलाइन के अनुसार, एफआईए सूत्रों ने कहा कि शरबत बीबी को एक जाली कंप्यूटराइज्ड राष्ट्रीय पहचान पत्र (सीएनआईसी) के लिए उनके घर से गिरफ्तार किया गया। शरबत बीबी के पास पाकिस्तान और अफगानिस्तान की दोहरी नागरिकता है और दोनों पहचान पत्र उनके पास से बरामद किए गए हैं।

अफगान युद्ध की मोनालिसा

‘अफगान युद्ध की मोनालिसा' का असली नाम शरबत बीबी है। शरबत उस वक्त सुर्खियों में आई थीं कि जब ‘नेशनल जियोग्राफिक' पत्रिका के फोटोग्राफर स्टीव मैककरी ने पेशावर के निकट निसार बाग शरणार्थी शिविर में उनकी तस्वीर ली थी। उस समय उनकी उम्र सिर्फ 12 साल की थीं। यह तस्वीर पत्रिका के मुख्य पृष्ठ पर प्रकाशित हुई और वह सुर्खियों में आ गई थीं। नेशनल जियोग्राफिक ने उनके जीवन पर एक लघु वृत्तचित्र भी बनाया। तस्वीर प्रकाशित होने के बाद वह कई वर्षों तक गुमनाम रहीं। पत्रिका ने साल 2002 में उन्हें दोबारा खोज निकाला और मैककरी ने उनसे मुलाकात की।

अफगानिस्तान में हालात खराब होने के बाद शरबत पाकिस्तान में आ गई और एक पाकिस्तानी पुरुष से विवाह कर लिया।

एफआईए के एक अधिकारी ने कहा कि जिस अधिकारी ने शरबत बीबी को पहचान पत्र जारी किया, वह सीमा शुल्क विभाग में उपायुक्त के रूप में कार्यरत है और इस मामले में गिरफ्तारी से बचने के लिए उसे पहले ही जमानत मिल चुकी है।

गत साल राष्ट्रीय डाटाबेस और पंजीकरण प्राधिकरण (एनएडीआरए) ने शरबत बीबी और दो अन्य लोगों को तीन सीएनआईसी जारी किए। इन दोनों को बीबी ने अपना पुत्र होने का दावा किया था। एनएडीआरए के नियमों और प्रक्रियाओं का उल्लंघन कर सीएनआईसी जारी किए गए थे।

अधिकारी ने आगे कहा कि दिए गए पते पर उपस्थित संबंधियों ने प्रपत्र में पुत्र के रूप में उल्लिखत दो लोगों को पहचानने से इनकार कर दिया है।

वेबसाइट डॉन ऑनलाइन के अनुसार, बिना वैध दस्तावेजों के विदेशी नागरिकों को सीएनआईसी जारी करने के लिए एनएडीआरए के अधिकारियों के साथ मिलकर एक जांच शुरू कर दी गई है।




Share it
Top