पाकिस्तान के ब्लूचिस्तान प्रांत में भूकंप के तेज झटके, स्थानीय लोगों में तनाव

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   8 Feb 2017 4:16 PM GMT

पाकिस्तान के ब्लूचिस्तान प्रांत में भूकंप के तेज झटके, स्थानीय लोगों में तनावपाकिस्तान के ब्लूचिस्तान प्रांत में भूकंप के तेज झटके।  

इस्लामबाद (भाषा)। पाकिस्तान के ब्लूचिस्तान प्रांत में आज 6.6 तीव्रता वालेे जोरदार भूकंप से स्थानीय लोगों में तनाव की स्थिति पैदा हो गई। यूएस जियोलॉजिकल सर्वे (यूएसजीएस) के अनुसार कल देर रात तीन बजकर चार मिनट पर भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। भूकंप का केंद्र पाकिस्तान के तटीय शहर पासनी के दक्षिण पश्चिम से 20 किलोमीटर की दूरी पर 25.9 किलोमीटर की गहराई पर था।

अधिकारियों ने बताया कि अभी तक किसी के हताहत होने की कोई खबर नहीं है लेकिन वे स्थिति का आकलन कर रहे हैं। झटके बलूचिस्तान के पानसी और मकरन इलाके के साथ ही सामरिक बंदरगाह ग्वादर में भी महसूस किए गए जहां चीन ने बंदरगाह निर्माण के लिए सबसे अधिक निवेश किया है। 46 अरब डॉलर की लागत से बना यह बंदरगाह चीन-पाक आर्थिक गलियारे (सीपीईसी) को जोड़ता है।

पाकिस्तान में भूकंप उत्तरी भारत में 5.8 की मध्यम तीव्रता वाला भूकंप आने के दो दिन बाद आया है, जिसके झटके दिल्ली में भी महसूस किए गए थे वहीं कल उत्तराखंड़ में भी 3.6 तीव्रता वाला भूकंप आया था। राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की रीमा जुबेरी ने भूकंप की तीव्रता 6.6 होने की पुष्टि की है।

बहरहाल यूएसजीएस ने भूकंप की तीव्रता 6.3 बताई थी ‘डॉन' की खबर के अनुसार मकरन डिवीजन के आयुक्त बशीर बंगुलजई ने कहा कि मकरन का पूरा आकलन किया जा चुका है और वहां किसी तरह का कोई भी नुकसान नहीं हुआ है।ग्वादर के आयुक्त तुफैल बलूच ने भी ग्वादर में किसी भी तरह का कोई नुकसान न होने की पुष्टि की है। सिंध के आयुक्त को पानसी में स्थिति का आकलन करने के लिए भेजा गया है।

पाकिस्तान भारतीय और यूरेेशियाई टेक्टॉनिक प्लेटों के बीच और संधु-त्संग्पो सिवनी जोन में स्थित है जो हिमालय फ्रंट से करीब 200 किलोमीटर उत्तर में है जिससे क्षेत्र पर भूकंप से प्रभावित होने का खतरा अधिक बना रहता है। देश ने पिछले कुछ वर्षों में भूकंप के कई झटके महसूस किए हैं। पाकिस्तान में वर्ष 2005 में आए 7.6 की तीव्रता वाले भूकंप में 73,000 से अधिक लोगों की मौत हो गई थी और करीब 35 लाख लोग बेघर हो गए थे जिनमें अधिकतर लोग पाक के कब्जे वाले कश्मीर के थे।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top