धनतेरस पर मुख्यमंत्री ने स्कूली बच्चों को थाली और गिलास बांटे और कहा, भाजपा-बसपा रहें होशियार

धनतेरस पर मुख्यमंत्री ने स्कूली बच्चों को थाली और गिलास बांटे और कहा, भाजपा-बसपा रहें होशियारलखनऊ के मोहनलालगंज के प्राइमरी स्कूल धनुआसांड के बच्चों के संग मुख्यमंत्री अखिलेश यादव।

लखनऊ (भाषा)। धनतेरस के मौके पर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज मध्यान्ह भोजन योजना के अन्तर्गत सरकारी स्कूलों के बच्चों को एक थाली और गिलास का वितरण कर योजना का शुभारम्भ किया।

भाजपा और बसपा से होशियार रहें : अखिलेश

इस अवसर पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने जनता को भाजपा और बसपा से होशियार रहने की सलाह देते हुए आज कहा कि बसपा ने कीमती जमीनों पर कब्जा करके मूर्तियां लगवा लीं वहीं, भाजपा अब चुनाव को साम्प्रदायिक एजेंडे की तरफ ले जा रही है।

‘जय श्रीराम' का नारा लगाए जाने की तरफ किया इशारा

धनतेरस के मौके पर प्रदेश के सभी सरकारी स्कूलों के बच्चों को एक थाली और गिलास के वितरण अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा ‘‘भाजपा के लोग चुनाव प्रचार के दौरान क्या कह देंगे, कुछ नहीं पता, इसलिए भाजपाइयों से बचकर रहना।'' प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा दशहरे के दिन लखनऊ में और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह द्वारा कल इटावा में अपने भाषण के दौरान ‘जय श्रीराम' का नारा लगाए जाने की तरफ इशारा करते हुए अखिलेश ने कहा ‘‘याद रखना, ये वही लोग हैं जो पहले दूसरा नारा देते थे। पहले उनका भाषण भारत माता की जय पर खत्म होता था, अब किस बात पर खत्म हो रहा है, इसलिए होशियार रहिए।''

भाजपा को विकास के मामले में केंद्र की अपनी सरकार तथा उत्तर प्रदेश की समाजवादी पार्टी सरकार के बीच तुलना करने की चुनौती देते हुए उन्होंने कहा ‘‘हम भाजपा के लोगों से पूछना चाहते हैं कि आपने लखनऊ में कौन सा बड़ा काम किया है। अगर आप काम में तुलना करेंगे तो समाजवादियों की तुलना नहीं की जा सकती।''

भाजपा के लोग ऐसे शब्द ढूंढ़कर लाते हैं जो आसानी से समझ नहीं आते। खुद उन्होंने गूगल पर देखा तो पता लगा कि सर्जिकल स्ट्राइक क्या है, अखबारों में देखा तो पाया कि हमने भी सर्जिकल स्ट्राइक कर दी है, तब ठीक से जाना कि सर्जिकल स्ट्राइक क्या है।
अखिलेश यादव मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश

अखिलेश ने बसपा पर गम्भीर आरोप लगाते हुए कहा कि इस पार्टी ने कीमती जमीनों पर कब्जा करके वहां मूर्तियां लगवा ली। बसपा की नेता के दिमाग में पता नहीं कहां से आ गया कि वह अपने जीते-जी अपनी मूर्तियां बनवा लें।

बुआजी ने अपने जीते-जी अपनी मूर्तियां लगवा ली

उन्होंने कहा ‘‘हालांकि हम उन्हें (मायावती को) अच्छे शब्द से बुलाते हैं। वह इससे नाराज भी होती हैं लेकिन आज धनतेरस है, इसलिए फिर से अच्छे शब्द में कहेंगे कि हमारी बुआजी ने अपने जीते-जी अपनी मूर्तियां लगवा ली और स्मारकों पर ऐसे हाथी लगवाए जो बैठे थे, वे बैठे ही रहे और जो खड़े थे वे अब भी खडे ही हैं।''

मुख्यमंत्री ने उम्मीद जताई कि जनता अगले विधानसभा चुनाव में एक बार फिर सपा पर भरोसा करेगी और प्रदेश में दोबारा उनकी सरकार बनेगी। समाजवादियों ने विकास में संतुलन बनाया है, शहर के साथ-साथ गाँवों का भी विकास किया है।


Share it
Share it
Share it
Top