दूध के केन बन रहे रेल यात्रियों के लिए मुसीबत

दूध के केन बन रहे रेल यात्रियों के लिए मुसीबतफोटो: गाँव कनेक्शन

लखनऊ। बादशाह नगर और चारबाग रेलवे स्टेशन पर ट्रेनों से आए दिन आसपास के इलाकों के दूध वाले दूध बेचने के लिए आते हैं। ये दूध वाले हर रोज ट्रेनों के दरवाजे और खिड़कियों के सहारे अपने दूध के केन लटका कर सफर करते हैं। सुबह केनों को लटका कर राजधानी आने के लिए सफर करते हैं तो शाम को ट्रेन से वापस भी ले जाते हैं।

जनरल बोगी हो या स्लीपर क्लास सभी खिड़कियों पर हर रोज केन को लटका कर राजधानी लाते हैं और दूध की बिक्री करते हैं। ट्रेनों के रुकते ही ये लोग भीड़ बनाकर अफरा-तफरी में केनों को उतारते हैं। इन केनों को उतारने के चलते यात्री भी धक्का-मुक्की करते हुए ट्रेनों में चढ़ते हैं। अक्सर ऐसा होता है कि ट्रेन स्टेशन से चल चुकी होती है और ये लोग अपने केनों को उतारते रहते हैं। ऐसे में यात्रियों को चढ़ने में काफी दिक्कतें होती हैं।

कभी-कभी ऐसा भी होता है कि यात्रियों की गाड़ियां छूट भी जाती हैं। इन केनों को उतारने के चलते कभी भी बड़े हादसे हो सकते हैं। मंगलवार को चारबाग स्टेशन पर इन केनों को उतारने के चलते हादसे की आशंका बनी रही लोग उसी अफरातफरी के बीच ट्रेनों में चढ़ते उतरते रहे। स्टेशन परिसर के एक बुक स्टाल के मालिक ने बताया कि ये लोग हर रोज इसी तरह ट्रेनों को उतारते और चढ़ाते हैं, जिसे देखकर भी अनसुना कर दिया जाता है। केनों के इन क्रियाकलापों के चलते कभी भी बड़े हादसे हो सकते हैं। रेलवे प्रशासन और जीआरपी के हर समय निगरानी के बावजूद ऐसा हर रोज होता है, लेकिन फिर भी कोई कार्रवाई नहीं की जाती। ऐसे में ये छोटी सी समस्या लापरवाही के कारण कभी भी बड़े हादसे का रूप ले सकती है।

Share it
Top