क्राइस्टचर्च मस्जिद घटना : बदला लेने के लिए मस्जिद पर किया हमला

न्यूजीलैंड में दो मस्जिदों में गोलियां चलाकर 49 लोगों की जान लेने वाले ह‍मलावर की पहचान 28 वर्षीय ऑस्‍ट्रेलियाई नागरिक ब्रेंटन टारेंट के तौर पर की गई है, जिसने सोशल मीडिया पर 74 पृष्‍ठों का एक दस्‍तावेज भी पोस्‍ट किया, जिससे यह पता चलता है कि हमले के पीछे वजह क्या रही

क्राइस्टचर्च मस्जिद घटना : बदला लेने के लिए मस्जिद पर किया हमला

न्यूजीलैंड (एएफपी)। न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च में शुक्रवार को दो मस्जिदों में गोलीबारी कर 49 लोगों को मौत के घाट उतारने के आरोपी दक्षिणपंथी हमलावर को शनिवार को अदालत में पेश किया गया। ऑस्ट्रेलिया में जन्मा ब्रेंटन टारेंट (28) हाथ में हथकड़ी और कैदियों वाली सफेद रंग की कमीज पहने अदालत में पेश हुआ। न्यायाधीश ने उसके खिलाफ हत्या के आरोप तय किए। उस पर और भी आरोप लगाए जा सकते हैं।

हमलावर पूर्व फिटनेस प्रशक्षिक है। उसने कई बार अदालत में मौजूद मीडिया की ओर देखा। सुरक्षा कारणों के चलते सुनवाई बंद कमरे में हुई। हमलावर ने जमानत की कोई अर्जी नहीं दी। पांच अप्रैल को होने वाली अगली सुनवाई तक उसे हिरासत में रखा जाएगा। हमले में घायल चार वर्षीय बच्चे सहित 42 लोगों का इलाज जारी है।



हमलावर ब्रेंटन ऑस्ट्रेलिया के न्यू साउथ वेल्स का रहने वाला बताया जा रहा है। उनसे 74 पेज का जो मेनिफेस्‍टो सोशल मीडिया पर शेयर किया है, उसे 'द ग्रेट रिप्लेसमेंट' यानी महान बदलाव नाम दिया है। बताया जाता है कि उसका जन्‍म एक निम्न आयवर्ग वाले परिवार में हुआ था और करीब 8 साल पहले ही उसके पिता की बीमारी के कारण जान चली गई थी।

ब्रेंटन की रुचि पढ़ाई-लिखाई में बिल्‍कुल भी नहीं थी और इसलिए स्‍कूली शिक्षा पूरी करने के बाद वह यूनिवर्सिटी नहीं गया, बल्कि बिटक्‍वाइन से पैसे कमाकर दुनिया भ्रमण पर निकल गया। इस दौरान वह पाकिस्‍तान और उत्‍तर कोरिया भी गया। उसने अपने एक फेसबुक पोस्‍ट में पाकिस्‍तान दौरे के बारे में जिक्र करते हुए लिखा था, 'एक अविश्वसनीय जगह, जहां दुनिया के अच्छे और उदार लोग रहते हैं।'



अपनी दरिंदगीभरी करतूत को उसने 17 मिनट तक फेसबुक लाइव के जरिये दिखाया, जिसमें वह मस्जिद में अंधाधुंध गोलियां बरसाता नजर आ रहा है। यह मंजर दिल दहला देने वाला था, जिसे देखकर हर कोई सहम गया। सोशल मीडिया से अब तक उसके बारे में जो जानकारी सामने आई है, उसके मुताबिक इस जघन्‍य वारदात को उसने 'बदले की भावना' से अंजाम दिया।

उसने खुद को एक 'श्वेत राष्ट्रवादी' बताया है, जो आव्रजकों से बेहद घृणा करता है। उसने अपना रोल मॉडल अमेरिका के राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप को बताया है और उन्‍हें 'नई श्वेत पहचान का प्रतीक' करार दिया है।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top