दिल्ली में प्रदूषण नियंत्रित करने को तीन दिन के लिए स्कूल बंद

दिल्ली में प्रदूषण नियंत्रित करने को तीन दिन के लिए स्कूल बंददिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल।

नई दिल्ली (आईएएनएस)| दिल्ली सरकार ने रविवार को कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में प्रदूषण को नियंत्रित करने के कदम के तौर पर सभी स्कूलों को अगले तीन दिनों तक बंद रखा जाएगा और पांच दिनों तक किसी निर्माण कार्य की इजाजत नहीं दी जाएगी।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में पर्यावरण के संकट पर आरोप-प्रत्यारोप का खेल नहीं होना चाहिए। मुख्यमंत्री ने राजधानी में जेनरेटर सेट के इस्तेमाल पर रोक की भी घोषणा की है।

केजरीवाल ने अपने मंत्रिमंडल की आपातकालीन बैठक की अध्यक्षता करने के बाद कहा, "यह राजनीति को अलग कर (समस्या का) समाधान ढूंढ़ने का समय है।"

आम आदमी पार्टी (आप) नेता ने संवाददाताओं से कहा, "प्रदूषण का स्तर पहले से ही काफी ज्यादा था। हमने विशेषज्ञों से सलाह ली है और हम कुछ आपातकालीन कदम उठा रहे हैं।"

केजरीवाल ने कहा कि दक्षिण दिल्ली के बदरपुर के कोयला आधारित ताप बिजली संयंत्र को भी 10 दिनों के लिए बंद कर दिया जाएगा, जिससे काफी मात्रा में राख उठती है। संयंत्र के भतीर फैली राख पर पानी का छिड़काव किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि शहर की सड़कों पर व्यापक पैमाने पर पानी का छिड़काव किया जाएगा और लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) के अंतर्गत आने वाली सभी 100 फुट चौड़ी सड़कों की 10 नवंबर से वैक्यूम क्लीनिंग शुरू की जाएगी।

पांच दिनों तक इमारतों के निर्माण और ढहाने पर रोक रहेगी। दिल्ली में प्रदूषण का स्तर गंभीर है और पूरे शहर और पड़ोसी राज्यों में धुंध और धुएं की चादर छाई है। राजधानी में 30 अक्टूबर को दिवाली के बाद से प्रदूषण के स्तर में और गिरावट आ गई है।

सूखी पत्तियों को जलाने पर प्रतिबंध को कड़ाई से लागू करने की भी घोषणा की। उन्होंने कहा कि जल्द ही एक ऐप जारी किया जाएगा, जिस पर इसके उल्लंघन से संबंधित जानकारी दी जा सकेगी।
अरविंद केजरीवाल मुख्यमंत्री दिल्ली

केजरीवाल ने कहा कि नगर निगम प्रशासन को भी शहर में लैंड फिल साइट में आग पर काबू रखने को कहा गया है। उन्होंने लोगों से जहां तक संभव हो घर में ही रहने और वहीं से काम करने की भी अपील की और कहा कि सम-विषम प्रणाली को फिर से शुरू किया जा सकता है।

Share it
Top