नोटबंदी में भी खादी-ग्रामोद्योग की बिक्री 9.25 प्रतिशत बढ़ी  

नोटबंदी में भी खादी-ग्रामोद्योग की बिक्री 9.25 प्रतिशत बढ़ी  खादी के कपड़े की बुनाई करतीं महिलाएं।

नई दिल्ली (भाषा)। नोटबंदी के बावजूद दिसंबर में खादी एवं ग्रामोद्योग की वस्तुओं की बिक्री में सवा नौ प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है। खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग देशभर में 7100 बिक्री केंद्रों के माध्यम से बिक्री करता है।

आयोग के चेयरमैन वी. के. सक्सेना ने एक बयान में कहा कि 1000 और 500 रुपए के पुराने नोटों को चलन से बाहर किए जाने के बावजूद आयोग की बिक्री प्रभावित नहीं हुई है।

उन्होंने कहा कि नोटबंदी के बाद शुरुआती दो-तीन दिन में बिक्री में कमी देखी गई लेकिन डिजिटल भुगतान के विभिन्न माध्यमों को प्रोत्साहन दिए जाने के चलते इसमें जल्द ही सुधार हो गया। इसके अलावा आयोग ने 2000 रुपए से ज्यादा की डिजिटल खरीददारी करने पर कई तरह की छूट और उपहार की भी घोषणा दी थी।

इसके अलावा आयोग ने अपने बिक्री केंद्रों पर डिजिटल भुगतान करने पर एक प्रतिशत अतिरिक्त छूट भी मुहैया कराई। गौरतलब है कि सरकार ने 8 नवंबर को नोटबंदी की घोषणा की थी।

Share it
Share it
Share it
Top