नई दिल्ली में रामजस कॉलेज के बाहर छात्रों के दो गुटों में झड़प  

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   22 Feb 2017 5:22 PM GMT

नई दिल्ली में रामजस कॉलेज के बाहर छात्रों के दो गुटों में झड़प  नई दिल्ली में रामजस कॉलेज।

नई दिल्ली (आईएएनएस)। नई दिल्ली में बुधवार को रामजस कॉलेज के बाहर दो छात्र समूहों के बीच झड़प हो गई। यह घटना अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) द्वारा उस कार्यक्रम को निलंबित कराने के एक दिन बाद सामने आई, जिसे कथिततौर पर राष्ट्र-विरोधी नारे लगाने के मामले में जेल जा चुके जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) छात्र उमर खालिद संबोधित करने वाले थे।

रामजस कॉलेज के छात्रों ने आरएसएस से संबद्ध एबीवीपी के खिलाफ निकटवर्ती मॉरिस नगर पुलिस थाने तक मार्च निकालने की योजना बनाई थी। छात्र कार्यक्रम को जबरन रोकने का आरोप लगाते हुए एबीवीपी सदस्यों के खिलाफ कार्रवाई की मांग के साथ पुलिस स्टेशन जाना चाह रहे थे। लेकिन, उन्हें कालेज को घेरे खड़े एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने रोक दिया।

कालेज के बाहर भारी तादाद में पुलिकर्मियों की तैनाती के बावजूद झड़प होती रही।

एबीवीपी के लोग एक विरोध मार्च में हिस्सा लेने आए छात्रों को कॉलेज से निकलने नहीं दे रहे।
कवलप्रीत कौर डीयू इकाई की अध्यक्ष ऑल इंडिया स्टूडेंट एसोसिएशन

रामजस कॉलेज में मंगलवार को भारतीय जनजातियों को लेकर दो दिवसीय सेमिनार के पहले सत्र को एबीवीपी के छात्रों ने बाधित किया था। भारतीय जनजातियों पर ही उमर खालिद पीएचडी थीसिस लिख रहे हैं। एबीवीपी के छात्रों ने खालिद को 'राष्ट्रद्रोही' बताते हुए नारे लगाए और मंगलवार को होने वाले पूरे दिन को कार्यक्रम को रोकने पर मजबूर किया।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

बीते साल नौ फरवरी को जेएनयू में कथिततौर पर राष्ट्र विरोधी नारे को लेकर मुकदमे का सामना करने वाले छात्रों में उमर खालिद का नाम भी शामिल है।

खालिद ने बुधवार को कहा, "मैं रामजस कॉलेज जा रहा था, लेकिन मुझे बताया गया कि एबीवीपी ने कार्यक्रम को बाधित किया है। आयोजकों ने मुझे किसी अन्य मार्ग से आने को कहा, लेकिन फिर भी मैं जा नहीं सका हूं।" उन्होंने कहा कि बुधवार का मार्च उन्हें लेकर नहीं, बल्कि 'विश्वविद्यालय में लोकतांत्रिक माहौल' को लेकर था।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top