हिलेरी-ट्रंप दोनों चुनाव बाद देश को एकजुट करने में रहेंगे अक्षम, अमेरिकी जनता नाराज 

हिलेरी-ट्रंप दोनों चुनाव बाद देश को एकजुट करने में रहेंगे अक्षम, अमेरिकी जनता नाराज अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव।

न्यूयार्क (भाषा)। अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव की लंबे समय से चली आ रही सरगर्मियां अब जहां अपने अंतिम चरण तक पहुंच गई हैं, वहीं एक सर्वेक्षण में पाया गया है कि बड़ी संख्या में मतदाता अमेरिकी राजनीति की इस स्थिति से ‘‘क्षुब्ध'' महसूस करने लगे हैं। उनका मानना है कि डेमोक्रेटिक उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन और उनके प्रतिद्वंद्वी डोनाल्ड ट्रंप इन चुनावों के बाद देश को एकजुट करने के मामले में गैर ईमानदार और अक्षम साबित होंगे।

न्यूयार्क टाइम्स-सीबीएस न्यूज पोल ने कहा कि बड़ी संख्या में मतदाता अमेरिकी राजनीति की स्थिति से क्षुब्ध हैं और कई मतदाता यह संदेह भी जाहिर कर रहे हैं कि दोनों बडे दलों में से किसी एक का भी उम्मीदवार ‘‘राष्ट्रपति पद के ऐतिहासिक रूप से घिनौने दिखने वाले प्रचार अभियान'' के बाद देश को एकजुट रखने में सफल होगा भी या नहीं।

अधिकतर मतदाताओं का मानना है कि हिलेरी और ट्रंप दोनों ही चुनावी मौसम के बाद देश को एकजुट रखने में असमर्थ ही रहने वाले हैं। दस में से आठ से ज्यादा मतदाताओं का कहना है कि प्रचार अभियान ने उन्हें रोमांचित होने के बजाय नकारने की स्थिति में ला दिया है और हिलेरी एवं ट्रंप को गैर ईमानदार माना जा रहा है और अधिकतर मतदाता उनके प्रति अच्छा नजरिया नहीं रखते।

हिलेरी ट्रंप पर दहाई अंकों में बढ़त लेने में सफल रही थीं लेकिन उन्होंने इस अंतर को पर्याप्त रूप से कम होते भी देखा। हालांकि सर्वेक्षण में वह अब भी बढत की ही स्थिति में हैं क्योंकि वह महिलाओं और अश्वेत मतदाताओं के बीच लाभ की स्थिति में हैं।

हिलेरी के पास संभावित मतदाताओं में से 45 प्रतिशत मतदाताओं का समर्थन है जबकि ट्रंप के पास 42 प्रतिशत का समर्थन है। महिलाओं में हिलेरी को ट्रंप की तुलना में 14 अंकों की बढ़त प्राप्त है जबकि पुरुषों में ट्रंप 11 अंकों से आगे चल रहे हैं।
सर्वेक्षण में निकल के आया...

टाइम्स-सीबीएस सर्वेक्षण हिलेरी के ईमेलों को लेकर एफबीआई के ताजा खुलासों के बाद किया गया था, फिर भी मोटे तौर पर 10 में से लगभग छह मतदाताओं का यह कहना है कि किसी भी उम्मीदवार के बारे में अंत समय पर किए गए खुलासे उनके वोटों में कोई ज्यादा अंतर नहीं लाएंगे।

हालांकि नए ईमेल खुलासों के कारण हिलेरी को वोट देने से हतोत्साहित होने की बात कहने वालों की तुलना में कहीं अधिक लोगों ने कहा कि ट्रंप के बारे में लगने वाले आरोप उनके वोटों पर नकारात्मक असर डाल सकते हैं।

ट्रम्प के लिए महिला प्रकरण व हिलेरी के लिए ईमेल प्रकरण बना जी का जंजाल

दस में से चार संभावित मतदाताओं ने कहा कि महिलाओं के प्रति ट्रंप के व्यवहार के कारण इस बात की संभावना कम है कि वे ट्रंप का समर्थन करें। वहीं सर्वेक्षण में शामिल एक तिहाई मतदाताओं ने कहा कि हिलेरी के ईमेल प्रकरण में एफबीआई की जांच में आए नए मोड के कारण ऐसा प्रभाव होगा।

चुनाव में धांधली पर समर्थकों के अलग सुर

चुनाव में ‘‘धांधली'' होने के ट्रंप के आरोपों के कई सप्ताह बाद उनके 10 में से छह से ज्यादा समर्थकों ने कहा कि यदि वह हार भी जाते हैं तो वे नतीजों को स्वीकार कर लेंगे। वहीं उनके एक चौथाई से ज्यादा समर्थकों ने कहा कि यदि हिलेरी को विजेता घोषित किया जाता है, तो वे शायद इसे स्वीकार न करें।


Share it
Top