वन रैंक-वन पेंशन को लेकर पूर्व सैनिक रामकिशन ने जंतर मंतर पर किया सुसाइड

वन रैंक-वन पेंशन को लेकर पूर्व सैनिक रामकिशन ने जंतर मंतर पर किया सुसाइडरामकिशन ग्रेवाल

नई दिल्ली। भारत की राजधानी दिल्ली में वन रैंक-वन पेंशन (OROP) की मांग को लेकर जंतर-मंतर पर प्रदर्शन कर रहे एक पूर्व सैनिक ने जहर खाकर आत्महत्या कर ली है। मृतक पूर्व सैनिक वन रैंक-वन पेंशन मुद्दे पर सरकार के फैसले से संतुष्ट नहीं था, जिसके चलते मृतक और उनके कुछ साथी सोमवार से जंतर-मंतर पर धरना दे रहे थे।

मृतक पूर्व सैनिक का नाम रामकिशन ग्रेवाल था। रामकिशन हरियाणा के रहने वाले थे। पुलिस के मुताबिक, रामकिशन वन रैंक-वन पेंशन मुद्दे पर सरकार के फैसले से असहमत थे, जिसकी वजह से वह अपने कुछ साथियों के साथ सोमवार से जंतर-मंतर पर धरने पर बैठे थे।

परिजनों की माने तो मंगलवार दोपहर रामकिशन अपने साथियों के साथ अपनी मांगों को लेकर रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर से मिलने जा रहे थे, लेकिन रास्ते में ही रामकिशन ने जहर खा लिया। आनन-फानन में रामकिशन को राम मनोहर लोहिया अस्पताल ले जाया गया, जहां इलाज के दौरान रामकिशन की मौत हो गई। बता दें कि रामकिशन ने आत्महत्या से पहले एक सुसाइड नोट भी लिखा था। रामकिशन ग्रेवाल ने नोट में लिखा कि मैं अपने देश, मातृभूमि और जवानों के लिए अपने प्राण न्योछावर कर रहा हूं। वहीं रामकिशन के छोटे बेटे ने बताया कि उसके पिता ने खुद इस बात की सूचना उसे फोन पर दी थी।

वहीं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीटर के जरिये मोदी करकार पर हमला बोलते हुए कहा कि इसका मतलब प्रधानमंत्री जी झूठ बोल रहे हैं की OROP लागू कर दिया। OROP लागू हो जाता तो राम किशन जी को आत्महत्या क्यों करनी पड़ती?

उन्होंने अपने अगले ट्वीट में कहा कि मोदी राज में किसान और जवान दोनो आत्महत्या कर रहे हैं।

Share it
Share it
Share it
Top