आने वाले समय में सभी स्कूल के बच्चों के लिए एक होगा सिलेबस: अखिलेश यादव

आने वाले समय में सभी स्कूल के बच्चों के लिए एक होगा सिलेबस: अखिलेश यादवलोकभवन में आयोजित शिक्षकों के सम्मान समारोह व बच्चों को बैग वितरण कार्यक्रम के अवसर पर बोलते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव।

लखनऊ। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने रविवार को शिक्षाधिकारियों को खरी-खरी सुनाई। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में अपने शिक्षकों को कैसे और मदद करें, तमाम जो जाल बिछे हुए हैं बीएसए के इनसे उनको कैसे निकालें यह सोचेंगे। अगर बहुत फेयर काम हुआ तो शायद हमारा कम्प्यूटर शिक्षकों को इस जाल से निकाल सकता है। मुख्यमंत्री ने यह बात रविवार को लोकभवन में आयोजित शिक्षकों के सम्मान समारोह व बच्चों को बैग वितरण कार्यक्रम के अवसर पर कही। उन्होंने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में और भी पारदर्शिता लाने के प्रयास समाजवादी सरकार करती रहेगी।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कई बच्चों को चेक का वितरण भी किया।

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने इस अवसर पर सभी लोगों से समाजवादी पार्टी को फिर से सत्ता में लाने के लिए वोट की अपील की और कहा कि समाजवादी पार्टी को वोट दें। उन्होंने कहा कि जो बात कही जा रही है कि गरीब और अमीर के बच्चे साथ पढ़ें, तो यह समाजवादियों का बहुत पुराना नारा है और लोहिया जी भी यही चाहते थे और नेताजी भी यही चाहते हैं। हमारी सरकार जो कुछ कर सकती थी इसके लिए किया भी है। मैं भरोसा दिलाता हूं कि आने वाले समय में हम स्कूलों के इंतजाम न एक कर पायें, स्कूल बिल्डिंग न एक कर पायें लेकिन हम समाजवादियों की कोशिश होगी कि स्कूलों में जो सिलेबस पढ़ाया जाता है वह सब बच्चों का एक हो। इसके लिए टीचर को ट्रेंड कर देंगे। उन्होंने कहा कि इन्फ्राइस्टेक्चर हो न हो, क्योंकि उसमें पैसा बहुत खर्च होगा। बाकी चीजों में भी पैसा बहुत खर्च होता है, लेकिन यदि हम सिलेबस एक करने में कामयाब हो जाते हैं तो जो हमारे समाज में जो परिणाम आने वाले हैं वह बहुत बेहतर होंगे।

इस अवसर पर उन्होंने बच्चों को बैग्स का वितरण भी किया।

उन्होंने कहा कि दुनिया में आज जो देश सबसे ज्यादा तरक्की किये हुए हैं और हमसे आगे हैं उन्होंने सबसे पहले अपनी बेसिक शिक्षा पर ध्यान दिया है। हमारी सरकार की भी कोशिश है कि बच्चों के लिए जो भी बेहतर कर सकें करें। इसीलिए हमारी सरकार ने बच्चों को खाना खाने के लिए बर्तन भी दिये। क्योंकि हम लोगों ने तस्वीर देखी अखबारों में कि बच्चे दूध और पानी को कभी बच्चे प्लास्टिक तो कभी थर्माकोल के गिलास से पी रहे थे। इसलिए हम लोगों ने यह फैसला किया कि उत्तर प्रदेश अपने स्तर पर बच्चों को स्टील के बर्तन दे। इसके बाद हमारी सरकार ने बच्चों को स्टील की थाली और गिलास वितरित किये।

उन्होंने कहा कि जब स्कूल में बच्चों को फल बांटने का सिलसिला शुरू हुआ था तब मैंने पूरे प्रदेश से खबर मंगवायी। मुझे पढ़कर बहुत आश्चर्य हुआ और खुशी भी कि कई बच्चों ने पहली बार फल चखे थे। इससे पता चलता है कि हम लोग कितना पीछे हैं, इसलिए हम लोगों को मिलकर बच्चों और इस समाज को आगे बढ़ाना है। क्योंकि अगर बच्चे आगे बढ़ेंगे और अच्छी पढ़ाई के साथ आगे बढ़ेंगे तो हमारा समाज और देश मजबूत होगा। इसलिए बेसिक एजुकेशन में खासकर गरीब के बच्चों के लिए समाजवादी सरकार अब जो करेगी वह सबको दिखायी देगा।

कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री ने प्रदेश भर से चुने गये उन शिक्षक-शिक्षकाओं को सम्मानित किया जिन्होंने शिक्षा के क्षेत्र में बेहतर योगदान दिया था। इस अवसर पर उन्होंने बच्चों को बैग्स का वितरण भी किया तो वहीं कई बच्चों को चेक का वितरण भी किया। कार्यक्रम के दौरान वार्षिक नवाचार पुस्तिका व वेबसाइट की लांचिंग भी मुख्यमंत्री द्वारा की गयी। इस दौरान बेसिक शिक्षा मंत्री अहमद हसन, उच्च शिक्षा मंत्री शारदा प्रताप शुक्ला व मंत्री राजेन्द्र चौधरी सहित शिक्षाधिकारी भी मौजूद रहे।

Share it
Top