राजनाथ ने पाक को मुंहतोड़ जवाब देने की रणनीति बनाई

राजनाथ ने पाक को मुंहतोड़ जवाब देने की रणनीति बनाईकेंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह।

नई दिल्ली (भाषा)। सीमा पर गोलीबारी के बढ़ने के बीच गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने आज भारत पाक सीमा पर स्थिति की समीक्षा की। सीमा पर पाकिस्तानी गोलीबारी में आठ नागरिक मारे गए हैं और 22 लोग घायल हुए है। भारतीय सुरक्षा बलों की जवाबी कार्रवाई में पाकिस्तान के दो सैनिक भी मारे गए हैं।

अंतरराष्ट्रीय सीमा और जम्मू कश्मीर में नियंत्रण रेखा पर स्थिति की समीक्षा के लिए हुई बैठक में रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल, सेना प्रमुाख जनरल दलबीर सिंह सुहाग एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि शीर्ष सुरक्षा अधिकारियों ने गृह मंत्री और रक्षा मंत्री को पाकिस्तानी बलों की ओर से होने वाली गोलीबारी का जवाब देने के लिए उठाये गए कदमों के बारे में जानकारी दी। उल्लेखनीय है कि जम्मू क्षेत्र में पाकिस्तान की ओर से मोर्टार बम दागे जाने की घटनाओं में आठ नागरिकों की मौत हो गयी और 22 अन्य लोग घायल हो गये हैं। भारतीय सेना ने भी कड़ी जवाबी कार्रवाई की जिसमें दो पाकिस्तानी सैनिक मारे गये।

आज तड़के से ही पाकिस्तानी सैनिकों ने जम्मू कश्मीर में अंतरराष्ट्रीय सीमा से लगी बस्तियों और सैन्य चौकियों तथा नियंत्रण रेखा पर सांबा, जम्मू, पुंछ और राजौर जिलों में मोर्टार बम दागे। सेना ने बताया कि पाकिस्तानी सैनिकों ने 120 एवं 82 एमएम के मोर्टार बम जैसे भारी कैलिबर हथियारों का इस्तेमाल किया।

पाकिस्तान ने भारतीय राजनयिक को तलब किया

भारत ने आतंकवादियों की घुसपैठ कराने में मदद के लिए पाकिस्तान की ओर से की जाने वाली अकारण गोलीबारी को लेकर उस वक्त अपना विरोध दर्ज कराया जब पाकिस्तान ने भारतीय उप उच्चायुक्त को तलब किया।

पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा पर भारतीय सुरक्षा बलों द्वारा ‘संघर्ष विराम का अकारण उल्लंघन किए जाने' को लेकर भारतीय उप उच्चायुक्त को तलब किया और विरोध दर्ज कराया। एक सप्ताह में भारतीय उप उच्चायुक्त को चौथी बार तलब किया गया है।

पाकिस्तानी विदेश विभाग ने एक बयान में कहा, ‘‘महानिदेशक (दक्षिण एशिया और दक्षेस) मोहम्मद फैसल ने भारतीय उप उच्चायुक्त जेपी सिंह को तलब किया और 31 अक्तूबर को निकिआल और जनद्रोत सेक्टरों में भारतीय सुरक्षा बलों की ओर से किए गए संघर्ष विराम के अकारण उल्लंघन की कड़ी निंदा की।''

Share it
Top