30 दिसंबर तक बैंक में 5,000 रुपये से ज्यादा नहीं जमा कर पाएंगे

30 दिसंबर तक बैंक में 5,000 रुपये से ज्यादा नहीं जमा कर पाएंगेयहां चलेगा 15 दिसंबर तक पांच सौ का पुराना नोट

चेन्नई (आईएएनएस)| भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने सोमवार को पुराने 500 और 1000 के नोट 5,000 रुपये से ज्यादा जमा करने पर प्रतिबंध बढ़ा दिया है और अब सख्त जांच के बाद ही जमा कर सकेंगे। ये पुराने नोट 30 दिसंबर तक जमा किए जा सकेंगे।

ये प्रतिबंध प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना 2016 के तहत ज्यादा से ज्यादा काले धन को घोषित करने के लिए लगाए गए हैं।

इस अधिसूचना में आरबीआई ने सभी बैंकों को निर्देश दिया है कि वे 5,000 से अधिक की रकम पुराने नोटों में तभी जमा करने दें जब उनके 'नो योर कस्टमर (केवाईसी)' मानदंड पूरे हों। अगर कोई खाता केवाईसी मानंदडों पर खरा नहीं उतरता है तो उसमें केवल 50,000 रुपये तक जमा किया जा सकेगा।

आरबीआई के मुताबिक अगर कोई व्यक्ति 5,000 रुपये से ज्यादा की रकम पुराने नोट के रूप में जमा करता है तो उसके खाते में वह रकम तभी मिलेगी जब उससे दो बैंक अधिकारी पूछताछ के बाद संतुष्ट हो जाएंगे कि उसने अभी तक बैंक में वह रकम जमा क्यों नहीं करवाई। केवल संतोषजनक जबाव देने के बाद ही उसे अपने पैसे मिलेंगे। इसके साथ ही उसके जबाव को बैंक अधिकारी अपने ऑडिट रिकार्ड में भी रखेंगे। पुराने नोटों को बैंक खातों में 30 दिसंबर तक ही जमा किया जा सकता है।

नकदी की किल्लत से लोगों में आक्रोश

उधर, नकदी की कमी झेल रहे लोगों की संख्या में सोमवार को भी कोई कमी देखने को नहीं मिली। बैंकों और एटीएम के बाहर पैसे निकालने के लिए लंबी कतारें लगी रहीं। अब कतार में खड़े लोगों का गुस्सा बढ़ता देखा ता रहा है। कई लोगों के हाथ में अभी तक दिसंबर का वेतन भी पूरा नहीं आ पाया है, वे सोच रहे हैं कि ग्यारह दिन बाद जनवरी का वेतन भी उनके खाते में आ जाएगा, लेकिन वे पैसे कब हाथ में आएंगे, इसका कोई ठिकाना नहीं है।

लोग सोच रहे थे कि जैसा कि प्रधानमंत्री ने कहा था, 50 दिन में ये मुश्किलें खत्म हो जाएंगी। मगर सोमवार को कानपुर की रैली में बात बदलते हुए नरेंद्र मोदी ने कहा कि 50 दिन में मुश्किलें कम होने लगेंगी। यानी लोगों को कतार में कब तक लगना होगा, यह अभी कहा नहीं जा सकता।

सोमवार को देश के ज़्यादातर हिस्सों में लंबी कतार देखी गई।

आईएएनएस के संवाददाता ने शहर के दस बैंकों और एटीएम का दौरा किया और दक्षिण दिल्ली के कालकाजी इलाके में पंजाब नेशनल बैंक और भारतीय स्टेट बैंक के बाहर करीब 150 लोगों को कतार में खड़े देखा।

इसी तरह के दृश्य पूर्वी दिल्ली के प्रीत विहार इलाके में इंडियन ओवरसीज बैंक, आईसीआईसीआई बैंक और एक्सिस बैंक के बाहर भी थे। एक लॉ कंपनी में काम करने वाले कालकाजी एक्सटेंशन निवासी, एक सुरक्षा गार्ड जसवंत शर्मा ने कहा, "जिस दिन से मुझको तनख्वाह मिली है, तब से मैं कुछ नकदी निकालने के लिए एटीएम खोज रहा हूं। मेरे तीन प्रयास विफल हो गए हैं, क्योंकि मेरी बारी आने से पहले एटीएम में नकदी खत्म हो जाती है।"

जब 500 और 1000 रुपये के नोटों को अमान्य किए जाने को उनके समर्थन के बारे में पूछा गया तो शर्मा ने कहा, "मुझको सरकारी निर्णय से कुछ लेना-देना नहीं है। मैं तो सिर्फ कुछ नकदी निकालना चाहता हूं, ताकि घर चला सकूं। मेरी जेब में सिर्फ दस रुपये बचे हैं।"

काउंटर पर लगी लोगों की भीड़।

कालकाजी इलाके में दिन में 12.30 बजे के आसपास एचडीएफसी और यस बैंक के एटीएम के बाहर करीब 300 लोग कतारों में खड़े थे, कई ने कहा कि वे सुबह छह बजे ही कतार में लग गए, फिर भी नोट मिलेंगे या नहीं, इसकी कोई गारंटी नहीं है।

दक्षिणी दिल्ली स्थित पंजाब नेशनल बैंक के बाहर खड़े साउथ एक्सटेंशन पार्ट-2 के निवासी बलविंदर सिंह ने कहा, "बहुत बदइंतजामी है। घंटों कतार में खड़े रहने के बाद भी पैसे मिलेंगे या नहीं, कहा नहीं जा सकता।"

उन्होंने कहा, "सरकार ने मध्यम और कामकाजी वर्ग के लोगों को परेशान कर दिया है। नोटबंदी के बाद से आज मैं तीसरी बार अपने दफ्तर नहीं गया, क्योंकि घर में पैसे नहीं हैं। क्या दफ्तर से मेरी गैरहाजिरी के बदले जो वेतन कटेगा, उसका भुगतान सरकार करेगी?"

इसी तरह की बातें नोएडा में एक बहुराष्ट्रीय कंपनी के साथ काम करने वाली आईटी पेशेवर नेहा शर्मा ने कहा, "हम पैसे निकालने का बहाना बनाकर हर समय दफ्तर नहीं छोड़ सकते न! पता नहीं, कब तक ऐसा रहेगा।"

उन्होंने क्रोधित होकर कहा, "सरकार ने एक सप्ताह में 24000 रुपये निकालने की सीमा तय की है, लेकिन बैंक अधिकारी सिर्फ 4000 रुपये देते हैं। चार हजार रुपये में पूरे महीने का खर्च तो नहीं चल सकता, बार-बार कतार में लगते रहो.. बहुत मुश्किल है अब झेलना।"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर को कालाधन और भ्रष्टाचार पर रोक लगाने की बात कहकर बड़े नोटों को अमान्य घोषित कर दिया था, तब से पूरे देश में लोगों का ज्यादातर समय भूखे-प्यासे बैंकों या एटीएम के बाहर कतार में खड़े बीत रहा है।

Share it
Top