न्यायमूर्ति केहर को अगला प्रधान न्यायाधीश बनाने की सिफारिश

न्यायमूर्ति केहर को अगला प्रधान न्यायाधीश बनाने की सिफारिशप्रधान न्यायाधीश के बाद न्यायमूर्ति खेहर ही सबसे वरिष्ठ हैं।

नई दिल्ली (आईएएनएस)। प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति टी. एस. ठाकुर ने मंगलवार को अपने उत्तराधिकारी के रूप में न्यायमूर्ति जगदीश सिंह केहर की नियुक्ति की सिफारिश सरकार से की है। वह तीन जनवरी को सेवानिवृत्त हो रहे हैं। जानकार सूत्रों से यह जानकारी मिली है। प्रधान न्यायाधीश के बाद न्यायमूर्ति खेहर ही सबसे वरिष्ठ हैं। प्रधान न्यायाधीश के रूप में उनका कार्यकाल सात महीने का होगा, क्योंकि वह 28 अगस्त, 2017 को सेवानिवृत्त होंगे।

उन्हें एक मजबूत न्यायाधीश माना जाता है। न्यायमूर्ति केहर उस संविधान पीठ के अध्यक्ष थे, जिसने राष्ट्रीय न्यायिक नियुक्ति आयोग को न्यायपालिका की स्वतंत्रता में घुसपैठ और असंवैधानिक बताते हुए रद्द कर दिया था।

न्यायमूर्ति केहर पांच न्यायधीशों की उस संविधान पीठ के अध्यक्ष भी थे, जिसने अरुणाचल प्रदेश के राज्यपाल ज्योति प्रसाद राजखोवा के विधानसभा को जनवरी 2016 से दिसंबर तक रद्द करने के फैसले को खारिज कर दिया था तथा हटाए गए मुख्यमंत्री नबाम तुकी की सरकार को दोबारा बहाल करने का आदेश दिया था। न्यायमूर्ति केहर ने पंजाब विश्वविद्यालय से एलएलबी और एलएलएम की डिग्री ली है और विश्वविद्यालय में एलएलएम में उन्हें पहला स्थान हासिल करने के लिए स्वर्ण पदक से सम्मानित किया गया था।

आठ फरवरी, 1999 को पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय का न्यायाधीश चुने जाने से पहले न्यायमूर्ति केहर हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय और सर्वोच्च न्यायालय में बतौर अधिवक्ता प्रैक्टिस कर चुके थे। उन्हें 29 नवंबर, 2009 को उत्तराखंड उच्च न्यायालय का मुख्य न्यायाधीश नियुक्त किया गया था।

Share it
Share it
Share it
Top