व्यवस्था के समानांतर चल रहा सारा अवैध धन व्यवस्था के अंदर आ जाएगा: अमित शाह

व्यवस्था के समानांतर चल रहा सारा अवैध धन व्यवस्था के अंदर आ जाएगा: अमित शाहशाह ने यहां ‘एजेंडा आजतक’ कार्यक्रम में एक सवाल के जवाब में कहा कि अब तक जिन लोगों के पास अघोषित धन था, उन्हें अब कर भरना पड़ेगा और सरकार यही चाहती थी।

नई दिल्ली (भाषा)। BJP अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि नोटबंदी के कारण व्यवस्था के समानांतर चल रहा सारा अवैध धन व्यवस्था के अंदर आ जाएगा और इस धन का इस्तेमाल गरीबों के कल्याण पर होगा।

शाह ने यहां ‘एजेंडा आजतक' कार्यक्रम में एक सवाल के जवाब में कहा कि अब तक जिन लोगों के पास अघोषित धन था, उन्हें अब कर भरना पड़ेगा और सरकार यही चाहती थी। उनसे पूछा गया था कि 14 लाख करोड़ रुपये में से 11 लाख करोड़ रुपये खातों में आ चुके हैं तो काला धन कैसे खत्म कर पाएंगे, इस पर शाह ने कहा कि नोटबंदी के बाद अब बिना लेखा-जोखा वाला धन भी व्यवस्था के तहत आ रहा है।

उन्होंने कहा कि नोटबंदी के परिणाम दूरगामी होंगे और अर्थतंत्र में आमूल चूल परिवर्तन देखने को मिलेगा। नोटबंदी की तैयारियों के बारे में उन्होंने कहा कि किसी को मौका नहीं मिले इसके लिए नोटबंदी योजना को गुप्त रखा गया था। तैयारियां कम नहीं हैं।

यह पूछने पर कि क्या नोटबंदी को लागू करने का तरीका ठीक नहीं था, जिससे लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है तो उन्होंने कहा कि कुछ दिनों तक असुविधा रहेगी और प्रधानमंत्री ने भी कहा है कि 50-60 दिनों तक की दिक्कत है, लेकिन यह कदम लोगों के हित में उठाया गया है।

नोटबंदी के बारे में BJP को पहले से ही पता होने के विपक्ष के आरोपों के बारे में पूछने और इसके लागू होने से ऐन पहले पश्चिम बंगाल में भाजपा इकाई द्वारा बैंक खाते में करोड़ों रुपये जमा किए जाने और बिहार में जमीन खरीदे जाने के आरोपों के बारे में भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि पार्टी ने 2015 में ही हर जिला सेंटर में कार्यालय बनाने की योजना बनाई थी और नवम्बर 2016 तक 170 कार्यालय के लिए जमीन खरीदी जा चुकी है।

BJP अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि हमारे खाते का ब्यौरा पार्टी की वेबसाइट, चुनाव आयोग की वेबसाइट पर है और सब कुछ पारदर्शी है।

शाह से पूछा गया कि नोटबंदी के बाद उत्तरप्रदेश चुनावों को लेकर मायावती, मुलायम परेशान हैं तो फिर आपकी तैयारियां कैसी चल रही हैं, इस पर उन्होंने कहा कि सबको परेशानी आएगी, उसी तरह हमें भी परेशानी होगी।

नोटबंदी के बाद उत्तरप्रदेश में BJP के हाईटेक चुनाव प्रचार पर असर पड़ने के बारे में उन्होंने कहा कि सभी पार्टियों को बराबर का मौका मिलेगा और हम चाहते हैं कि चुनाव प्रक्रिया से काला धन बाहर निकल जाए। हालांकि राजनीतिक दलों और खासकर BJP को आरटीआई के दायरे में लाने के सवाल का शाह ने सीधा जवाब नहीं दिया और कहा कि चुनाव आयोग के तत्वाधान में सभी पार्टियां काले धन को चुनावों से बाहर करने पर अपनी राय रखें। उन्होंने जोर दिया कि वह राजनीति से काला धन दूर करने के पक्ष में हैं।

राजनीतिक दलों के चेक से चंदा लेने के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा कि नकदी नहीं होगी तो चेक से ही चंदा आएगा। शाह ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी अर्थशास्त्री नहीं थे, लेकिन उनके समय GDP आठ फीसदी थी, अर्थशास्त्री मनमोहन सिंह के प्रधानमंत्रित्व काल में GDP चार फीसदी पर चली गई और अब एक चायवाला प्रधानमंत्री है तो GDP 7.6 फीसदी पर पहुंच गई है। उन्होंने कहा कि धन अब या तो बैंकिंग सिस्टम के अंदर रहेगा या वे सारे नोट रद्दी हो जाएंगे।

शाह ने कहा कि सात नवम्बर तक BSP, SP, कांग्रेस सहित पूरा विपक्ष पूछता था कि काले धन पर क्या किया और अब कहते हैं कि क्यूं किया? उन्होंने कहा कि विदेशों से भी जब काला धन वापस लाएंगे तो विपक्षी दल फिर कहेंगे कि ऐसा क्यों किया? BJP अध्यक्ष ने सीमा पर जवानों की शहादत पर राजनीति नहीं करने की अपील करते हुए कहा कि पहले सिर्फ हमारे जवान शहीद होते थे लेकिन अब हमारे जवान उनकी सरहद में घुसकर बदला लेते हैं और यह सब राजनीतिक इच्छाशक्ति के कारण हो रहा है।

उन्होंने कहा कि उत्तरप्रदेश का चुनाव विकास के मुद्दे पर लड़ा जाएगा न कि संकुचित जातिवाद, परिवारवाद, राज्यवाद के मुद्दे पर। उन्होंने कहा कि नोटबंदी पर जनता हमारे साथ है और इसका फायदा चुनावों में होगा। शाह ने कहा कि नोटबंदी के बाद जितने भी चुनाव हुए हैं उनमें BJP ने अच्छा प्रदर्शन किया है।

यह पूछने पर कि जो कंपनियां राजनीतिक दलों को चंदे देती हैं उनका एनपीए बढ़ा है तो BJP अध्यक्ष ने कहा कि पूर्व के शासन में कंपनियों ने फायदा उठाया और हमारी सरकार ने कठोरता से काम किया है इसलिए कंपनियों का एनपीए बढ़ा है। नोटबंदी से शिवसेना और अकाली दल के भी परेशान होने के बारे में किए गए एक सवाल पर शाह ने कहा कि काले धन के आधार पर राजनीति करने वालों को दिक्कत हो रही है। जब उनसे पूछा गया कि लाल किले की प्राचीर पर वह कब झंडा फहराएंगे तो उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी में उनसे कई नेता वरिष्ठ हैं।

Share it
Share it
Share it
Top