बेटे प्रतीक को राजनीति में उतारनी चाहती हैं साधना गुप्ता, कहा, अखिलेश को किया गया गुमराह

बेटे प्रतीक को राजनीति में उतारनी चाहती हैं साधना गुप्ता, कहा, अखिलेश को किया गया गुमराहमुलायम सिंह यादव का परिवार।

लखनऊ। समाजवादी पार्टी परिवार की लड़ाई एक बार फिर सार्वजनिक हो गई है। इस बार मोर्चा मुलायम सिंह की दूसरी पत्नी साधाना गुप्ता ने संभाला है। साधाना गुप्ता ने आज एक न्यूज चैनल को दिए इंटरव्यू में साधना ने कहा कि नेताजी (मुलायम) का सम्मान बरकरार रहना चाहिए, क्योंकि नेता जी ने ही पार्टी को खड़ा किया है।

उन्होंने कहा कि अखिलेश मेरा और नेताजी का बहुत सम्मान करते हैं। उन्हें कौन कुमराह किया जा रहा है। एक मुख्य सचिव का स्थानांतरित किया गया था, लोगों ने कहा कि मैं इसके पीछे थी। जबकि यह बात पूरी तरह से झूठी है। अब हम पीछे नहीं रहेंगे, मेरा बहुत अपमान हुआ है।

चुनाव से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

वहीं परिवारिक घमासान के सवाल पर उन्होंने कहा कि परिवार में सब कुछ ठीक चल रहा है। मेरी इच्छा है कि सपा जीते और अखिलेश फिर से मुख्यमंत्री बने। लेकिन किसी ने यह नहीं सोचा था कि अखिलेश बागी हो जाएगा। नेता जी का सम्मान बरकरार रहना चाहिए, क्योंकि नेता जी ने ही पार्टी को खड़ा किया है। इसके साथ ही उन्होंने जोड़ा कि मैं राजनीति में आना चाहती थी लेकिन अब नहीं लेकिन खुलकर समाजसेवा करना चाहती हूं। इस दौरान साधना ने शिवपाल यादव का भी पक्ष लिया। उन्होंने कहा कि शिवपाल का अपमान नहीं होना चाहिए था, वह दोषी नहीं था। उन्होंने नेताजी और पार्टी के लिए बहुत कुछ किया है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top