देश में पहली बार बंजारों का भी हो रहा कौशल विकास

देश में पहली बार बंजारों का भी हो रहा कौशल विकासबंजारा लोग (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली (आईएएनएस)। प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के तहत देश में पहली बार अब बंजारों को समाज की मुख्यधारा से जोड़ने के लिए उनका कौशल विकास शुरू हो गया है। वे सिलाई, कढ़ाई का काम सीखने लगे हैं। इस योजना के तहत पहली बार बंजारों को कौशल विकास का प्रमाणपत्र 26 अक्टूबर को दिया गया है।

कौशल विकास मंत्रालय के अंतर्गत बने परिधान एवं गृह सज्जा परिषद के महानिदेशक व मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ.रूपक वशिष्ठ ने बताया कि 2022 तक देश में 40 करोड़ लोगों को कौशल विकास करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इस योजना के तहत घुमंतू जाति के लोगों को कौशल विकास का प्रशिक्षण दिया जा रहा है और इस पायलट परियोजना के तहत 40 बंजारों को कौशल विकास का प्रमाण पत्र दिया गया।

उन्होंने बताया कि इन बंजारों को सिलाई, कढ़ाई का प्रशिक्षण दिया जा रहा है, ताकि वे फैक्ट्रियों में काम कर सकें या घर बैठकर भी काम कर सकें।

वशिष्ठ ने बताया कि बंजारों को प्रशिक्षण उन जगहों पर जाकर दिया जा रहा है, जहां वे रहते हैं। एक समस्या यह भी है कि वे हमेशा एक जगह नहीं रहते। इन योजना के कारगार होने पर पूरे देश मंे इन बंजारों को प्रशिक्षित किया जाएगा, ताकि वे देश की मुख्यधारा से जुड़ सकें और उन्हें रोजगार मिल सके।

उन्होंने कहा कि इन बंजारों के पास प्रतिभा और कौशल की क्षमता तो है, केवल उन्हें प्रशिक्षित करने, उनकी प्रतिभा को निखारने की जरूरत है।

Share it
Share it
Share it
Top