तमिलनाडु में तूफान ‘वरदा’ ने बरपाया कहर, 10 की मौत

तमिलनाडु में तूफान ‘वरदा’ ने बरपाया कहर, 10 की मौततमिलनाडु में सोमवार को वरदा तूफान ने जबरदस्त तबाही मचाई।

चेन्नई (आईएएनएस)। तमिलनाडु में सोमवार को वरदा तूफान ने जबरदस्त तबाही मचाई। तूफान से जहां 10 लोगों की मौत हो गई, वहीं पेड़ उखड़ने के साथ ही घरों के छप्पर उड़ गए। चेन्नई में क्षेत्रीय मौसम केंद्र की निदेशक एस. स्टेला ने कहा, ''तूफान ने चेन्नई पोर्ट ट्रस्ट के निकट दस्तक दी। आगामी कुछ घंटों में यह कमजोर होगा। इस दौरान बारिश होती रहेगी और हवाएं 100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल रही हैं।''

उन्होंने कहा कि सोमवार सुबह जब शक्तिशाली तूफान का पहला हिस्सा तट से टकराया, उस वक्त हवा की रफ्तार 120 किलोमीटर प्रति घंटे थी। तूफान के साथ भारी बारिश हुई, जिससे पूरा चेन्नई पानी-पानी हो गया। अधिकांश लोग प्रकृति के प्रकोप के डर से घर में ही बंद रहे। क्षेत्रीय मौसम विभाग केंद्र के एक अन्य निदेशक एस.बालाचंद्रन ने बताया, "तूफान का पश्चिमी हिस्सा पहले गुजरा और उसके बाद बीच का हिस्सा आया।''

जब शक्तिशाली तूफान का पहला हिस्सा तट से टकराया, उस वक्त हवा की रफ्तार 120 किलोमीटर प्रति घंटे थी।

स्टेला ने कहा कि मीनमबक्कम मौसम केंद्र ने सुबह 8.30 बजे से शाम 5.30 बजे तक कुल 18 सेंटीमीटर बारिश दर्ज की। तूफान की वजह से कई पेड़ उखड़कर सड़कों पर ही गिर गए हैं। कई पेड़ चलते हुए दोपहिया वाहनों पर गिर गए। चेन्नई में कुल 260 पेड़ और 37 बिजली के खंभे उखड़ गए हैं।

तूफान से रेलवे की बुनियादी संरचना पर व्यापक प्रभाव पड़ा है। कई जगहों पर ओवरहेड इलेक्ट्रिकल लाइंस क्षतिग्रस्त हो गए हैं। रेलवे ने कई उपनगरीय रेल सेवाएं रद्द कर दी हैं और लंबी दूरी की रेलगाड़ियों का मार्ग परिवर्तित कर दिया है। तूफान से उड़ान सेवाएं भी प्रभावित हुई हैं।

हवा की रफ्तार 50 नॉट है जो उड़ान सेवाओं के लिए अनुकूल नहीं है। 25 उड़ान सेवाओं को मार्ग परिवर्तित किया गया है, नौ उड़ान सेवाएं देरी से चल रही हैं और पांच को रद्द कर दिया गया है।
दीपक शास्त्री, निदेशक, चेन्नई हवाईअड्डा

मौसम विभाग ने अगले 36 घंटे यानी बुधवार तक दक्षिण तटीय आंध्र प्रदेश, उत्तर तटीय तमिलनाडु और पुडुच्चेरी में बारिश का अनुमान जताया है। तमिलनाडु सरकार ने तूफान से होने वाली स्थिति से निपटने के लिए आवश्यक एवं एहतियातन कदम उठा लिए हैं। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ओ.पन्नीरसेल्वम ने रविवार को मंत्रियों और अधिकारियों के साथ मिलकर स्थिति की समीक्षा की। सरकार ने चेन्नई, कांचीपुरम, तिरुवल्लुर जिलों में सभी सरकारी, सरकारी सहायता प्राप्त निजी स्कूलों, कॉलेजों और अन्य शैक्षणिक संस्थानों में अवकाश घोषित कर दिया है।

यह अभी तक स्पष्ट नहीं हो पाया है कि शैक्षणिक संस्थान मंगलवार को खुलेंगे या नहीं, क्योंकि चेन्नई में सड़कों पर गिरे पेड़ों को हटाने की जरूरत है। तमिलनाडु सरकार ने निजी संगठनों को भी उनके कामगारों को अवकाश देने या घर से काम करने की सलाह दी है।

Share it
Share it
Share it
Top