अगर अब भी नहीं संभले तो 2050 तक समुद्र में मछलियों से ज्यादा प्लास्टिक होगा

अगर अब भी नहीं संभले तो 2050 तक समुद्र में मछलियों से ज्यादा प्लास्टिक होगारिपोर्ट में कहा गया है कि 20 प्रतिशत प्लास्टिक पैकेजिंग का दोबारा इस्तेमाल किया जा सकता है।

दावोस (भाषा)। भारत सहित उद्योग जगत के करीब 40 नेताओं ने सोमवार को रीसाइकिल प्लास्टिक कचरे के लिए नई योजना का समर्थन किया। उन्होंने आशंका जताई कि यदि तत्काल जरूरी कदम नहीं उठाए गए तो 2050 तक समुद्रों में मछलियों से अधिक प्लास्टिक होगा।

इस योजना का मकसद कुल प्लास्टिक पैकेजिंग में कुल री साइक्लिंग को 14 से बढ़ाकर 70 प्रतिशत करना है। यह योजना यहां डब्ल्यूईएफ की रिपोर्ट में पेश की गई है। एलन मैकऑर्थर फाउंडेशन का निष्कर्ष है कि यदि तत्काल कदम नहीं उठाए गए तो 2050 तक समुद्रों में वजह से हिसाब से मछलियों से अधिक प्लास्टिक होगा।

रिपोर्ट में कहा गया है कि 20 प्रतिशत प्लास्टिक पैकेजिंग का दोबारा इस्तेमाल किया जा सकता है। वहीं 50 प्रतिशत अन्य ने कहा कि यदि पैकेजिंग डिजाइन व इस्तेमाल बाद की प्रबंधन प्रणाली में सुधार किया जाता है तो 50 प्रतिशत प्लास्टिक को मुनाफे के साथ री साइकिल किया जा सकता है।

Share it
Share it
Share it
Top