जल्लीकट्टू को लेकर चेन्नई में हिंसक प्रदर्शन, थाने के बाहर आगजनी, पुलिस का लाठीचार्ज 

जल्लीकट्टू को लेकर चेन्नई में  हिंसक प्रदर्शन, थाने के बाहर आगजनी, पुलिस का लाठीचार्ज आक्रमक भीड़ ने थाने के बाहर खड़े वाहनों पर तोड़फोड़ कर आग लगा दी। साभार: द हिंदू

चेन्नई/कोयम्बटूर। जल्लीकट्टू को लेकर प्रदर्शन की आग और तेज हो चुकी है। सोमवार की सुबह आक्रमक भीड़ ने मरीना बीच स्थित आइस पुलिस स्टेशन के बाहर आगजनी की। शहर में जल्लीकट्टू को लेकर प्रदर्शन पिछले छह दिनों से चल रहा है। सूत्रों के अनुसार, पुलिस ने मरीना बीच जाने वाली भीड़ पर लाठीचार्ज की है। इस दौरान 80 से ज्यादा प्रदर्शनकारी घायल हो गए हैं।

तमिलनाडु में पुलिस ने जल्लीकट्टू के समर्थन में पिछले एक सप्ताह से विरोध प्रदर्शन का केंद्र बने मरीना बीच समेत राज्यभर में विभिन्न प्रदर्शन स्थलों से सैकड़ों प्रदर्शनकारियों को सोमवार को खदेड़ना शुरू कर दिया। कुछ जगहों पर पथराव करने और लाठीचार्ज करने की भी रिपोर्टें हैं।

मरीना में सोमवार तड़के पुलिस की कार्रवाई शुरू हुई। मरीना बीच की ओर जाने वाली सड़कों की घेराबंदी कर दी गयी और बड़ी संख्या में पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया। कुछ प्रदर्शनकारियों ने समुद्र के किनारे मानव श्रृंखला बना ली और वहां से हटने की पुलिस के आग्रह से इनकार करते हुए प्रदर्शनकारियों का एक समूह समुद्र में उतर गया।

कुछ अन्य प्रदर्शनकारी वहां धरने पर बैठ गए जबकि कुछ आसपास के इलाकों में एकत्रित हो गये, नारेबाजी करने लगे और पुलिसकर्मियों पर कथित तौर पर पथराव भी किया। पुलिस ने मरीना बीच के समीप त्रिप्लिकैन में फिर से इकट्ठा हुए और कथित रूप से पथराव करने वाले प्रदर्शनकारियों को खदेड़ने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े और लाठीचार्ज किया।

केंद्रीय कारागार के समीप जल्लीकट्टू के आयोजन के लिए स्थायी समाधान की मांग और पुलिस व पेटा के खिलाफ नारे लगा रहे करीब 300 प्रदर्शनकारियों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया।


वहीं कोयम्बटूर में मीनाक्षी हॉल के पास जल्लीकट्टू के समर्थन में प्रदर्शन कर रहे करीब 100 छात्रों को पुलिस ने पकड़ा।

Share it
Top