व्यवहारगत बदलाव लाने के लिए थी नोटबंदी: नायडू 

व्यवहारगत बदलाव लाने के लिए थी नोटबंदी: नायडू केंद्रीय मंत्री एम वेंकैया नायडू।

नई दिल्ली (भाषा)। केंद्रीय मंत्री एम वेंकैया नायडू ने कहा है कि नोटबंदी का मकसद लोगों में व्यवहारगत बदलाव लाना था, जैसा कि विगत ढाई साल के कार्यकाल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छ भारत अभियान सहित अहम पहलों के जरिये करने का प्रयास किया है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि लोगों की मानसिकता में परिवर्तन और बदलाव लाना मोदी का मिशन है।

उन्होंने कहा, ‘‘अगर आप बीते ढाई साल के अहम पहलों को देखें तो मानसिकता में बदलाव लाने की उत्कंठा साफ झलकती है। मोदीजी चाहते हैं कि लोग सोचें और अलग तरीके से काम करें।'' नायडू ने कहा, ‘‘स्वच्छ भारत अभियान क्या है? मूल रुप से यह नागरिकों को कोई भी कचरा खुले में फेंकने से पहले सोचने के लिए कहता है।''

उन्होंने बताया, ‘‘बड़े नोटों को अमान्य करने का उद्देश्य भी पैसे के प्रति हमारी सोच और नकद खर्च करने के तरीके के प्रति नजरिये में बदलाव लाना है। यह एक अहम व्यवहारगत परिवर्तन परियोजना है। नोटबंदी से लोगों में व्यवहारगत बदलाव लाना है।'' स्वच्छ भारत योजना शुरु करने से पहले उनसे कही गई प्रधानमंत्री की बातों का जिक्र करते हुए नायडू ने बताया, ‘‘प्रधानमंत्री ने कहा था कि इस परियोजना को राजनीतिक या सरकारी कार्यक्रम नहीं बनाया जाना चाहिए।'' शहरी विकास मंत्री नायडू ने कहा, ‘‘जब उन्होंने कहा था कि इसे राजनीतिक या सरकारी कार्यक्रम नहीं बनाया जाए, तब शुरु में मैं समझ नहीं पाया। फिर उन्होंने अगला वाक्य कहा, ''इसे जन आंदोलन बनाइए। यही वो व्यवहारगत बदलाव है जो वह लाना चाहते हैं।''

नायडू ने कहा, ‘‘यहां तक कि स्वच्छ भारत के लिए अपना समर्थन जता चुके बिल गेट्स ने भी मुझसे कहा था, मिस्टर नायडू, पैसा मुद्दा नहीं है, सोच मुद्दा है।'' ‘मुद्रा योजना', ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ' योजनाओं जैसी सरकार की कई पहलों का उल्लेख करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा कि एक योजना का मकसद कमजोर वर्गों के प्रति बैंकों के रुख में बदलाव लाना है जबकि अन्य योजना महिलाओं के प्रति रवैये में बदलाव की बात करती है। उन्होंने कहा, ‘‘यह बदलाव आप हरियाणा में खासकर पुरुष-महिला अनुपात के संदर्भ में देखते हैं।'' मंत्री ने कहा कि मोदी अब फसल बीमा पर जोर दे रहे हैं जिसका उद्देश्य किसानों के नजरिए में बदलाव लाना है।

उन्होंने कहा, ‘‘लोग बीमा की बात करते हैं लेकिन वे अपना प्रीमियम अदा करने के इच्छुक नहीं होते हैं। तो अब उन्होंने एक आकर्षक ऑफर दिया है, मैं आपके प्रीमियम का कुछ हिस्सा अदा करुंगा, आप भी इसमें योगदान दीजिए। आपने उनमें आत्मविश्वास भरा क्योंकि निराशा हावी हो रही थी और किसान खुदकुशी कर रहे थे।'' सब्सिडी के मामले का हवाला देते हुए वरिष्ठ मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री ने सम्पन्न लोगों से एलपीजी सब्सिडी छोडने के लिए कहा।

उन्होंने कहा, ‘‘कुछ लोगों ने इस विचार का मजाक उड़ाया, लेकिन उन्होंने दिखाया कि एक करोड़ 10 लाख लोगों ने स्वेच्छा से अपनी सब्सिडी छोड़ी है, जिसे अब गरीब लोगों को दिया जा रहा है। पांच करोड़ लोगों को अब गैस कनेक्शन मिलने जा रहा है। यह एलपीजी सब्सिडी भी एक बार फिर एक सरल व्यवहारगत बदलाव है। उन्हें इस पर भारी प्रतिक्रिया मिली।''

Share it
Top