नोटबंदी ने वैक्यूम क्लीनर की तरह नकदी को सोख लिया : आईएमएफ 

नोटबंदी ने वैक्यूम क्लीनर की तरह नकदी को सोख लिया : आईएमएफ बड़े नोट हुए बंद।

वाशिंगटन (भाषा)। भारत में नोटबंदी से नकदी की गंभीर समस्या पैदा हुई और इससे उपभोग बुरी तरह प्रभावित हुआ। अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष के एक अधिकारी ने कहा कि नोटबंदी ने नकदी को वैक्यूम क्लीनर की तरह सोख लिया। अब धीमी रफ्तार से नकदी को बदला जा रहा है।

आईएमएफ के एशिया और प्रशांत विभाग के सहायक निदेशक पॉल ए कैशीन ने कहा, ‘‘आपने गैर परंपरागत मौद्रिक नीतियों के जरिए ‘हेलीकॉप्टर से पैसा' गिराने के बारे में सुना होगा। इसी तरह नोटबंदी की पहल को वैक्यूम क्लीनर की तरह लिया जा सकता है।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

आईएमएफ ने भारत पर अपनी वार्षिक कंटरी रिपोर्ट जारी की है। कैशीन ने इस बारे में पूछे गए सवाल पर कहा, ‘‘यह नकदी को सोखने जैसा है, बाद में वैक्यूम क्लीनर उलटा चलकर पैसा डाल रहा है, हालांकि इसकी रफ्तार काफी धीमी है। इससे नकदी का संकट पैदा हुआ है जिससे उपभोग पर प्रतिकूल असर पड़ा है।''

बाजार में नकदी के संकट के मद्देनजर आईएमएफ ने अपनी रिपोर्ट में भारत सरकार से नए बैंक नोटों को डालने का काम तेजी से करने को कहा है। जरुरत होने पर अस्थायी छूट मसलन ग्रामीण और दूरदराज के इलाकों में पुराने नोटों के इस्तेमाल की अनुमति देने को कहा गया है।

Share it
Share it
Share it
Top