विश्व को जल को सहयोग का वाहक बनाने का लक्ष्य बनाना चाहिए: भारत 

विश्व को जल को सहयोग का वाहक बनाने का लक्ष्य बनाना चाहिए: भारत संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन।

संयुक्त राष्ट्र (भाषा)। भारत ने जल संबंधी संघर्षों की संभावना को नकारे नहीं जा सकने की बात रेखांकित करते हुए कहा है कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय को जल मामलों को सुरक्षा के मामले से जोड़ने का रुख अपनाने पर विचार करने के बजाए इसे सहयोग का वाहक बनाने का लक्ष्य तय करना चाहिए।

संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने जल, शांति और सुरक्षा पर खुली बहस के दौरान कल यूएनएससी में कहा, ‘‘आधुनिक दुनिया में और अंदरुनी संयोजकता की हमारी मौजूदा समझ और हमारी साझी पर्यावरणीय चुनौतियों के मद्देनजर हमें जल मामलों को सुरक्षा के विषय से जोडने का रुख अपनाने पर विचार करने के बजाए जल को अंतरराष्ट्रीय संवाद के अहम शब्द के रुप में सहयोग का वाहक बनाने का लक्ष्य तय करना चाहिए।''

भारतीय राजनयिक ने कहा, ‘‘(सहयोग का) रख अपनाने से वास्तविक अंतरराष्ट्रीय सहयोग विकसित होगा। पानी जैसे जटिल एवं जीवन के लिए अहम मामले पर दूसरा (पानी को सुरक्षा का मामले से जोड़ने का) मार्ग अपनाने से पूरी मानवता के साथ अन्याय होगा।''

Share it
Top