आप केवल 25 पैसे को बंद करने की हिम्मत कर सकते थे: मोदी

आप केवल 25 पैसे को बंद करने की हिम्मत कर सकते थे: मोदीप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। फोटो साभार: गूगल

कर्नाटक (भाषा)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए रविवार को कहा कि उसने अपने शासनकाल में 500 और 1,000 रुपये के पुराने नोटों को छूने की हिम्मत तक नहीं की और यह ‘‘सफाई'' जरुरी थी क्योंकि पिछले 70 सालों में देश में काफी लूट हुई है।

आप केवल 25 पैसे को बंद करने की हिम्मत कर सकते थे

उन्होंने कहा, ‘‘मैं हैरान हूं कि कांग्रेस पूछ रही है कि मैंने 1,000 और 500 रुपये के नोट क्यों बंद कर दिए। जब आपने 25 पैसे बंद किए थे, हमने कुछ कहा था? आप केवल 25 पैसे को बंद करने की हिम्मत कर सकते थे, आपकी ताकत उतनी ही थी। लेकिन आपने बड़े मूल्य के नोटों को अवैध नहीं किया....हमने किया।''

आपमें बड़े नोटों का चलन बंद करने की ताकत नहीं थी

मोदी ने 500 और 1,000 रुपये पुराने नोटों का चलन बंद करने के सरकार के फैसले का विरोध कर रही कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा, ‘‘लोगों ने एक सरकार चुनी और वह उससे काफी उम्मीद करते हैं।'' उन्होंने कहा, ‘‘आप भी काले धन रोक लगाने के लिए सहमत हुए थे, लेकिन आपमें बड़े नोटों का चलन बंद करने की ताकत नहीं थी। आप 25 पैसे का चलन बंद कर ही सबकुछ कर लेना चाहते थे।''

पैसों के गबन की खबरों से भरे होते थे अखबार

प्रधानमंत्री ने पूर्ववर्ती संप्रग सरकार की आलोचना करते हुए कहा, ‘‘आठ नवंबर की रात को रात आठ बजे (जो हुआ उसे) आपने देखा? 2013, 2014 के अखबार कोयला और 2जी जैसे घोटाले में बहुत सारे पैसों के गबन की खबरों से भरे होते थे। लेकिन आठ नवंबर के बाद उन लोगों की स्थिति ऐसी हो गयी कि उन्हें 4,000 रुपये के लिए भी लाइन में खड़ा होना पड़ा।''

मैंने पहले भी कहा था...

मोदी ने कहा, ‘‘जो मुझपर आज सवाल उठा रहे हैं... जिन्होंने मेरे भाषण सुने हैं... मैंने ऐसा पहली बार नहीं कहा है। बहुत साल पहले मैंने एक सार्वजनिक कार्यक्रम में कहा था कि कांग्रेस के पास ताकत नहीं है इसलिए वे 25 पैसे का चलन बंद कर रहे हैं, अगर मुझे मौका मिला तो मैं 1,000 के नोटों का चलन रोक दूंगा।'' मोदी ने कर्नाटक लिंगायत एजुकेशन (केएलई) सोसाइटी के शताब्दी समारोह में बोलते हुए कहा कि सरकार ईमानदार लोगों को परेशान नहीं करना चाहती, लेकिन वह बेईमानों को नहीं छोड़ेगी।'' केएलई सोसाइटी यहां का एक शीर्ष शिक्षा संस्थान है।

मुझे 70 महीने का समय दें, मैं इसे साफ कर दूंगा

उन्होंने काला धन के खिलाफ अपने ‘‘युद्ध'' का बचाव करते हुए कहा, ‘‘....70 साल हो गए, मुझे बताएं कि देश को लूटा गया या नहीं? भ्रष्टाचार हुआ है या नहीं? घरों में नकदी का बड़ा भंडार पड़ा है या नहीं?'' प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘बहुत लूट लिया गया। आपने लुटेरों को देखा है। देश में 70 साल से लूट चल रही है, मुझे 70 महीने का समय दें, मैं इसे साफ कर दूंगा।'' उन्होंने कहा, ‘‘जो लोग पूछा करते थे कि मोदी ने क्या किया है? अपना टीवी खोलें और देखें कि मोदी ने आठ नवंबर को क्या किया।'' मोदी ने कहा कि उन्होंने ‘‘ईमानदार'' लोगों के लिए एक ‘‘पवित्र कार्य'' किया है और ‘‘अगर आपको मेरी ईमानदारी एवं मेरे काम में भरोसा है, नोटों की सफाई करने के मेरे वादे पर भरोसा है तो मुझे आपका आर्शीवाद चाहिए, कृपया मुझे अपना आर्शीवाद दें।''

Share it
Share it
Share it
Top