Top

अफवाह निकली मोस्ट वांटेड आतंकवादी मसूद अज़हर की मौत की खबर

masood azhar, masood azhar dead, Jaish-e-Mohammed chief, Jaish-e-Mohammed chief masood azhar, masood azhar deadमसूद अजहर

लखनऊ। आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद प्रमुख और पुलवामा आतंकी हमले के मास्टर माइंड मौलाना मसूद अज़हर की मौत की खबर महज़ अफवाह निकली। कल से मीडिया में उसकी मौत की खबरें आ रही थी। मीडिया में चल रही तमाम रिपोर्ट्स के मुताबिक मसूद अज़हर की मौत पाकिस्तानी आर्मी के इस्लामाबाद हॉस्पिटल में हुई थी। आज पाकिस्तान के पंजाब के मंत्री फय्याज़ उल हसन चौहान ने बयान दिया कि वो ज़िन्दा है। मसूद भारत के मोस्ट वांटेड आतंकियों की लिस्ट में सबसे ऊपर है।

पाकिस्तानी सेना या इमरान खान सरकार ने इस बारे में अभी तक कोई बयान जारी नहीं किया है। जैश-ए-मोहम्मद की ओर से भी कुछ नहीं कहा जा रहा लेकिन मीडिया में आ रही ख़बरों के मुताबिक मसूद अज़हर की मौत हो चुकी है। मौत की खबर सोशल साइट्स पर ट्रेंड कर रही हैं ।

इससे पहले पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने मसूद अजहर के बीमार होने का दावा किया था। हाल ही में पुलवामा आतंकी हमले में सेना के 40 से ज्यादा जवान शहीद हो गये थे। इस हमले की जिम्मेदारी जैश-ए-मोहम्मद ने ही ली थी। इसके बाद भारत ने आतंकी ठिकानों पर कार्रवाई की थी।

रिपोर्ट्स के मुताबिक एयर स्ट्राइक के समय मसूद अज़हर अपने कैंप में सो रहा था। भारतीय वायुसेना ने 26 फरवरी को पाकिस्तान के खैबर पख्तुनख्वाँ स्थित बालकोट में जैश के ठिकानों पर एयर स्ट्राइक की थी जिसमें जैश के कई ठिकानों के ध्वस्त होने की खबर आयी थी। भारतीय एयरफोर्स ने 12 मिराज-2000 लड़ाकू विमानों का इस्तेमाल से कई आतंकी ठिकानों को तबाह कर दिया था।

आतंकी ट्रेनिंग से भगाया लड़का आतंक का सरगना कैसे बना

मौलाना मसूद अज़हर आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का चीफ है। वरिष्ठ पत्रकार, लेखक और स्टोरीटेलर नीलेश मिसरा ने कांधार प्लेन हाईजैक पर लिखी अपनी किताब 173 hours in captivity में लिखते हैं कि अजहर एक हेडमास्टर अल्लाह बख्श और पुकिया बिवी के घर 10 जुलाई 1968 को पैदा हुआ था। हालांकि उसने कभी खुद के जन्म से जुड़ी जानकारी नहीं दी है।

पांच भाइयों और छह बहनों के साथ अज़हर पाकिस्तान के बहावलपुर में एक पोल्ट्री फॉर्म में रहता था। आठवीं के बाद उसने स्कूल छोड़ दिया था। जामिया उलूम इस्लामिया से इस्लामिक पढ़ाई करने के बाद 1989 में डिग्री के बराबर कोई कोर्स किया। कॉलेज प्रशासन अजहर से इतना प्रभावित हुआ कि उसे टीचर की नौकरी दे दी। अज़हर ने इस्लाम के लिए बिना तनख्वाह लिए पढ़ाने की बात कही।

पूरी खबर यहां पढ़ें

मसूद अजहर: आतंकी ट्रेनिंग से भगाया गया लड़का जो बाद में आतंक की फैक्‍ट्री चलाने लगा

Updating.....

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.