Top

महाराष्ट्र के भंडारा जिला अस्पताल में लगी आग, 10 बच्चों की मौत, 7 को सुरक्षित बचाया गया

महाराष्ट्र के जिला भंडारा के सरकारी अस्पताल में बच्चों के वार्ड में आग लगने से 10 नवजात बच्चों की जिंदा जलकर मौत हो गई है। इन बच्चों की उम्र एक दिन से लेकर 3 महीने तक बताई जा रही है।

10 newborns died in hospital fire in bhandara maharashtraतस्वीर के महाराष्ट्र के भंडारा जिला अस्पताल की है। (फोटो- ANI से साभार)

महाराष्ट्र के भंडारा जिला अस्पताल में आग लगने से 10 बच्चों की मौत हो गई है। घटना शुक्रवार रात दो बजे की है। शॉर्ट सर्किट को आग लगने की वजह माना जा रहा है।

समाचार एजेंसी ANI के अनुसार, जिला अस्पताल के सिविल सर्जन प्रमोद खांदते ने बताया कि रात 2 बजे अस्पताल के सिक न्यूबॉर्न केयर यूनिट (SNCU) में आग लगने 10 बच्चों की मौत हो गई है जबकि सात बच्चों को बचा लिया गया है।

हादसे को लेकर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे से बात की है। इसके अलावा जिला कलेक्टर और पुलिस कप्तान से बातकर जांच के आदेश दिये हैं। वहीं घटना के बाद पूरे अस्पताल को बंद करा दिया गया है। स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने ट्वीट कर घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए कहा कि दम घुटने से मरने वाले बच्चों का पोस्टमार्टम नहीं होगा और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जायेगी। उन्होंने मृतक बच्चों के परिजन को पांच-पांच लाख रुपए की मदद का भी ऐलान किया है।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घटना को दुख व्यक्त किया है। राष्ट्रपति ने अपनें ट्वीट में कहा कि अस्पताल में शिशुओं की आसामयिक मृत्यु से मुझे गहरा दुख है। घटना में अपनी संतानों को खोने वाले परिवारों के प्रति मेरी हार्दिक संवेदना है।

वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसे दिल दहला देने वाली त्रासदी बताया है। उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा कि हमने बहुत कीमती नई जिंदगियां खो दीं। मेरी संवेदनाएं पीड़ित परिवारों के साथ हैं। मेरी प्रार्थना है कि घायल बच्चे जल्द से जल्द ठीक हो जाएं।

राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने शिशुओं की मौत की घटना पर दुख व्यक्त करते हुए शनिवार को जिले के कलेक्टर से कहा कि वो 48 घंटे के भीतर इस मामले में तथ्यात्मक रिपोर्ट दें। आयोग के अध्यक्ष प्रियंक कानूनगो के मुताबिक, एनसीपीसीआर ने भंडारा के कलेक्टर को चिट्ठी भेजकर कहा कि इस मामले की जांच की जाए।

Updating...

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.