बाजार में प्याज 150 से 180 रुपए किलो, मध्य प्रदेश में किसान 30 रुपए में बेच रहे

Mithilesh DubeyMithilesh Dubey   10 Dec 2019 1:45 PM GMT

बाजार में प्याज 150 से 180 रुपए किलो, मध्य प्रदेश में किसान 30 रुपए में बेच रहेमहाराष्ट्र की एक मंडी में प्याज उतारता मजदूर। इनसेट में मध्य प्रदेश के एक किसान की पर्ची जो उसे प्याज बेचने के बाद मंडी से मिली।

"सोमवार को जब मंडी पहुंचा तो वहां प्याज की कीमत 3500 रुपए प्रति कुंतल तक थी। मेरा प्याज थोड़ा ठीक था तो मुझे 3100 रुपए कुंतल मिल गया, जबकि छोटे साइज वाला प्याज 2000 रुपए में ही बिका। 10 दिन पहले यही प्याज 6000 रुपए कुंतल के हिसाब से बिका था।" मध्य प्रदेश, जिला मंदसौर के किसान उदयराम देवीलाल कहते हैं।

सोमवार को ही मंदसौर से लगभग 800 किमी दूर लखनऊ के गोमती नगर में प्याज की कीमत 150 रुपए प्रति किलो थी। महाराष्ट्र के सोलापुर में यही कीमत 180 जबकि देश की राजधानी नई दिल्ली में 100 रुपए प्रति किलो थी। लेकिन जब उदयराम अपनी प्याज लेकर मंडी पहुंचते हैं तो उन्हें छोटे साइज के एक किलो प्याज के बदले मात्र 20 रुपए और बड़े साइज के प्याज के 31 रुपए प्रति किलो मिले।

मतलब जिस एक किलो प्याज के लिए हम 150 से 200 रुपए तक दे रहे हैं किसानों से वही प्याज 20-30 रुपए में खरीदा जा रहा है।

उदयराम देवीलाल (45) मंदसौर की मंडी से 40 किमी दूर सीतामऊ तहसील के सेमलखेड़ा गांव में रहते हैं। उन्होंने इस साल ढाई बीघा (सवा एक एकड़) में प्याज की खेती की है। इसमें से कुछ फसल अगेती थी। वो बताते हैं, "जैसे-जैसे प्याज की आवक बढ़ रही है, कीमत गिर रही है। बारिश होने के कारण वैसे भी इस साल प्याज काफी लेट है। इसी कारण कीमत भी बढ़ी लेकिन किसानों को इसका बहुत फायदा नहीं होने वाला है, क्योंकि जैसे ही हमारी फसल तैयार होगी कीमत नीचे आ जायेगी।"

उदयराम देवीलाल को मंडी से मिली रशीद।

उत्तर प्रदेश, नोएडा के सेक्टर 12 में रहने वाले उमेश मिश्रा (40) एक प्राइवेट कंपनी में काम करते हैं। वहां प्याज की कीमत क्या है यह जानने के लिए मैंने उन्हें फोन किया। लेकिन जैसे उन्हें यह बताया कि किसानों से तो प्याज 20-30 रुपए में खरीदा जा रहा है तो वे नाराज होते हुए कहते हैं, "मैंने कल ही 180 रुपए किलो प्याज खरीदा। जबकि हमारे किसान इतने कम दाम में प्याज बेच रहे हैं। इससे तो हम दोनों का नुकसान हो रहा है। पता नहीं इससे फायदा कौन कमा रहा है ? सरकार को इस पर ध्यान देना चाहिए।"

हालांकि उपभोक्ता मामले खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय की वेबसाइट की रिपोर्ट की मानें तो 9 दिसंबर को गोवा के पणजी में प्याज की खुदरा कीमत देश में सबसे ज्यादा 165 रुपए प्रति किलो थी। देश की राजधानी नई दिल्ली में यही कीमत 96 और मुंबई में 102 रुपए प्रति किलो थी।

देशभर की मंडियों की जानकारी देने वाली केंद्र सरकार की वेबसाइट एगमार्कनेट के अनुसार नौ दिसंबर को महाराष्ट्र के जिला नासिक के लासलंगाव मंडी में किसानों को प्याज की अधिकतम कीमत 6800 रुपए जबकि सबसे कम 2000 रुपए कुंतल मिली, हालांकि मॉडल प्राइस 4700 रुपए प्रति कुंतल ही रहा। इस लिहाज से अगर देखेंगे तो किसानों को जो कीमत मिल रही है वो बाजार की कीमत से बहुत कम है।

ये तस्वीर हमें मध्य प्रदेश, मंदसौर के किसान श्याम ने अपने खेत से भेजी है।

महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, कर्नाटक, गुजरात, राजस्थान, बिहार, हरियाणा, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल, देश के कुल प्याज उत्पादन में इन प्रदेशों की हिस्सेदारी लगभग 90 फीसदी है।

यह भी पढ़ें- किसान व्यथा: 80 पैसे प्रति किलो प्याज बेचा, अब खाने के लिए 80 रुपए में खरीद रहा

मध्य प्रदेश, रतलाम के किसान रमेश धनगर (38) ने सोमवार को मंडी में जब प्याज बेचा तो उन्हें कीमत मिली 4000 प्रति कुंतल यानी की 40 रुपए प्रति किलो। वह फोन पर बताते हैं, "हमारे साथ तो धोखा हो गया। मैंने अखबारों में पढ़ा कि प्याज की कीमत 200 रुपए प्रति किलो तक पहुंच गई। किसान तो खुश हो गये। लेकिन जब मंडी पहुंचा तो बड़ी मुश्किल से 40 रुपए प्रति किलो का हिसाब मिला।"

हालांकि मध्य प्रदेश की इंदौर मंडी में प्याज की कीमत 7000 रुपए प्रति कुंतल तक मिली है। इस बारे में इंदौर से लगभग 40 किमी दूर ब्लॉक महू के हरसोला गांव के किसान कृष्णा पाटीदार बताते हैं, "हमारे यहां इंदौर मंडी में प्याज की कीमत 6500 से 7000 रुपए प्रति कुंतल मिली है। ये कीमत बाजार जितनी नहीं है फिर भी किसानों को इससे बहुत फायदा होने वाला है। हालांकि अभी तो प्याज खेत में ही है और आप देख लीजियेगा, जब तक प्याज खेतों से निकलने लगेगी तो यही कीमत 1 से 2 रुपए प्रति किलो तक पहुंच जायेगी।"

यह भी पढ़ें- प्याज @200 किलो, इस राज्य में किसानों को करनी पड़ रही दिन रात प्याज की रखवाली

राष्ट्रीय बागवानी अनुसंधान एवं विकास प्रतिष्ठान के अनुसार 2018-19 में 12.63 लाख हेक्टेयर क्षेत्रफल में प्याज की बुवाई हुई थी। जिससे कुल 234.85 लाख टन प्याज का उत्पादन हुआ था। लेकिन इस सीजन में प्याज उत्पादक प्रदेशों में हुई असमय बारिश के कारण भी प्याज की कीमतें आसमान छू रही हैं, क्योंकि लगातार बारिश की वजह से प्याज की बुआई देर से हुई जिस कारण बाजार में प्याज की आवक नहीं हो पा रही।

मंदसौर मंडी के मंडी सचिव जेके चौधरी बताते हैं, "आज तो हमारे यहां प्याज की कीमत अधिकतम 5500 और मिनिमम 2000 रुपए प्रति कुंतल रही। प्याज की बढ़ी कीमत देखकर किसान खेतों से प्याज निकाल रहे हैं जिस कारण आवक बढ़ रही है। 9 दिसंबर को हमने 3000 कुंतल प्याज खरीदा था, जबकि 10 दिसंबर को आवक 4000 कुंतल पहुंच गई। प्याज की क्वालिटी ठीक नहीं है जिस कारण किसानों को सही कीमत नहीं मिल पा रही है।"


More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top