14 साल के किशोर का 22 लीटर खून पी गए कीड़े

14 साल के किशोर का 22 लीटर खून पी गए कीड़ेसाभार: इंटरनेट।

गंगाराम अस्पताल में एक ऐसे बच्चे को भर्ती किया गया है जिसका 22 लीटर(50 यूनिट) खून कीड़े पी गए। उत्तराखंड के हल्द्धवानी के रहने वाले 14 वर्षीय किशोर के पेट में कीड़ें थे जो पिछले दो साल से किशोर का खून चूस रहे थे। खून की कमी के चलते हर महीने उसे खून चढ़ाना पड़ता था। लेकिन हर बार कीड़े किशोर का खून पी जाते थे।

समस्या बढ़ने पर परिजनों ने किशोर को गंगाराम अस्पताल में डॉक्टरों को दिखाया। चिकित्सकों ने कैप्सूल एंडोस्कोपी से इस घातक बीमारी का पता किया और इलाज शुरू किया। अस्पताल के गैस्ट्रोलॉजी विभाग के चेयरमैन डॉ. अनिल अरोड़ा के हवाले से वेबसाइड पंजाब केसरी ने बताया कि जब से वो प्रेक्टिस कर रहे है तब ये पहला मामला है जो उनके सामने आया है।

ये भी पढ़ें- राजस्थान: स्वाइन फ्लू से हफ्तेभर में 10 की मौत, भीड़भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचें

बच्चे की बीमारी इतनी बढ़ गई थी कि उसके शौच में खून आने लगा था। जिससे उसके शरीर में आयरन की कमी हो गई थी और किशोर एनिमिया से पीड़ित हो गया था। डॉक्टर के मुताबिक जब किशोर को 6 महीने पहले यहां लाया गया था तब उसके शरीर में हीमोग्लोबिन की मात्रा 5.86 ग्राम प्रति डेसीलीटर रह गई थी।

डॉ अरोड़ा ने बताया कि कैप्सूल एंडोस्कोपी जांच में कृमि(कीड़े) नजर आए। दवा देकर उन कीड़ो को मारा गया। डॉक्टर ने कहा कि कीड़ों की समस्या बहुत ही आम बात है। लेकिन ये इतने खतरनाक साबित हो सकते हैं ये पहली बार देखा गया है। परिजनों के मुताबिक अब तक किशोर को 50 यूनिट ब्लड चढ़ाया जा चुका है।

ये भी पढ़ें- राजस्थान: स्वाइन फ्लू से हफ्तेभर में 10 की मौत, भीड़भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचें

ये है कैप्सूल एंडोस्कोपी

  • इसमें कैप्सूल के आकार का एक वायरलेस कैमरा मुंह के जरिये पेट में डाला जाता है।
  • कैप्सूल कैमरा छोटी आंत में पहुंचकर हर सेकेंड 12 फोटो बाहर भेजता है।
  • इस तरह उस कैमरे से 12 घंटे में 70,000 तस्वीरें बाहर आती है।
  • कैप्सूल कैमरे के जरिये लाइव वाडियो भी स्क्रीन पर देखा जा सकता है।

ये भी पढ़ें- ठंड लगे तो आग तापिए, मगर इन बातों का रखें ध्यान

इन वजहों से हो सकते हैं कीड़े

  • उल्टी का आभास होना या बार-बार उल्टी का आना
  • कभी-कभी उल्टी या खासी में कीड़े भी बाहर आते हैं।
  • बच्चों में आंतरिक रक्तस्त्राव होना, जिसकी वजह से बच्चे में आयरन की कमी हो जाती है और बच्चे को उसके आहार से पोषक तत्व नहीं मिल पाती है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

संबंधित खबरें- सिर्फ फल ही नहीं इसके छिलके भी हैं काम के

सर्दियों की ये आम सी बीमारी बन सकती है बड़ा ख़तरा

शराब ठंड नहीं भगाती, अस्पताल पहुंचाती है, पैग के नुकसान गिन लीजिए

Share it
Share it
Share it
Top