जहरीली शराब से देश भर में 40 मौतें, 50 से अधिक बीमार

कुशीनगर, सहारनपुर और हरिद्वार में जहरीली शराब से 40 लोगों की मौत का मामला सामना आया है।

जहरीली शराब से देश भर में 40 मौतें, 50 से अधिक बीमार

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के सहारनपुर, कुशीनगर और उत्तराखंड के हरिद्वार से जहरीली शराब से मौत का सनसनीखेज मामला सामने आ रहा है। देश भर में कुल 40 लोगों की मौत की खबर है। सहारनपुर में कुल 18 लोगों की मौत से खबर है। वहीं कुशीनगर में मंगलवार से कुल 11 लोग जहरीली शराब पीने से काल के गाल में समा चुके हैं। वहीं 5 लोग गंभीर रूप से बीमार हैं। जबकि हरिद्वार के भगवानपुर में 11 लोगों की मौत की खबर है।

सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मामले को संज्ञान में लेते हुए मृतक आश्रितों को दो-दो लाख रुपए देने की घोषणा की है। इसके अलावा अस्पताल में उपचार करा रहे प्रभावितों को 50-50 हजार रुपये की आर्थिक सहायता दी जाएगी। साथ ही राज्य के पुलिस महानिदेशक को इन जिलों के पुलिस अधिकारियों के साथ मिलकर जांच करने को कहा गया है। मुख्यमंत्री ने आबकारी और पुलिस विभाग को अवैध शराब से जुड़े लोगों के विरुद्ध 15 दिनों का संयुक्त अभियान चलाने का भी निर्देश दिया है।

मुख्यमंत्री ने इस मामले में डीजी यूपी को जिला प्रशासन के साथ मिलकर जांच करने के आदेश दिए हैं। दोनों जिलों के आबकारी अधिकारियों को जवाब तलब किया गया है। सहारनपुर के चार थाना क्षेत्रों से कुल 18 लोगों की मौत की खबर है। सहारनपुर के नागल थानाक्षेत्र के गांव सलेमपुर में पांच, उमाही में पांच, गागलहेड़ी थानाक्षेत्र के गांव शरबतपुर में तीन, गागलहेड़ी थानाक्षेत्र के गांव मालीपुर में चार और देवबन्द थानाक्षेत्र के दंकोपुर गांव में एक व्यक्ति की मृत्यु हुई है।

वहीं कुशीनगर जिले में तरयासुजान थाना क्षेत्र के गांव जवहीं दयाल, विरवट कोन्हवलिया और बेदूपार से कुल दस लोगों की मौत की खबर है। इसके अलावा 5 लोग गंभीर रूप से बीमार हो गए हैं। उनका ईलाज गोरखपुर स्थित मेडिकल कॉलेज में चल रहा है। लगातार हो रही मौतों से स्थानीय लोगों में आक्रोश है। उन्होंने थाने के सामने भीड़ जुटाकर हंगामा भी मचाया है। जिला प्रशासन ने कार्यवाही करते हुए थानेदार और आबकारी निरीक्षक सहित कुल 9 लोगों को सस्पेंड किया है। इसके अलावा एक अवैध शराब कारोबारी को भी गिरफ्तार किया गया है।

कुशीनगर के जिलाधिकारी अनील कुमार सिंह और पुलिस अधीक्षक ने प्रभावित गांवों में जाकर लोगों को ढांढस बधाया है। जिले के पुलिस अधीक्षक राजीव नारायण मिश्रा ने जांच और कड़ी कार्यवाही की बात की है। मामले की जांच एएसपी गौरव वंशवाल को सौंपी गई है। वह 48 घंटे में इसकी रिपोर्ट देंगे। मृतकों का पोस्टमार्टम भी कराया जा रहा है। मृतक डेबा निषाद (55 वर्ष) के बिसरा को वाराणसी स्थित प्रयोगशाला में भेजा गया है ताकि बिसरा की जांच कर मौत के असली कारणों की जांच की जा सके।

इस मामले में राजनीति भी शुरू हो गई है। पूर्व सांसद बालेश्वर यादव सपा के प्रतिनिधिमंडल के साथ मृतकों के घर पहुंचे और मामले की सीबीआई जांच की मांग की। उन्होंने कहा कि तमकुहीराज क्षेत्र अवैध शराब के कारोबार का केंद्र बन चुका है, लेकिन शासन-प्रशासन आंख मूंदे हुई है। इस मामले को लेकर विधानसभा में भी हंगामा हुआ। तमकुहीराज के कांग्रेस के विधायक अजय कुमार लल्लू ने इस मामले को विधानसभा में उठाया।

उधर उत्तराखंड के हरिद्वार से भी जहरीली शराब से मौतों का मामला सामने आया है। आपको बता दें कि यह जिला सहारनपुर से जुड़ा हुआ है। इसलिए सहारनपुर और हरिद्वार के मामले एक दूसरे से जु़ड़े भी हो सकते हैं। यहां के भगवानपुर थाना क्षेत्र के अलग-अलग गांवों में जहरीली शराब पीने से कुल 10 लोगों की मौत हुई है, जबकि 40 से अधिर लोग अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती हैं। उत्तराखंड सरकार ने कार्यवाही करते हुए आबकारी विभाग के 10 निरीक्षकों, उपनिरीक्षकों और आरक्षियों को निलंबित कर दिया है।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top