परमाणु हमले का दंश झेलने के 72 साल बाद ऐसा है नागासाकी

परमाणु हमले का दंश झेलने के 72 साल बाद ऐसा है नागासाकीनागासाकी के माउंट इनासा की तस्वीर (फोटो साभार : इंटरनेट)

लखनऊ। द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान हिरोशिमा परमाणु हमले के तीन दिन बाद ही जापान के एक और खूबसूरत शहर बर्बाद हो गया था। नौ अगस्त 1945 के दिन नागासाकी को भी अमेरिका ने परमाणु हमला कर बर्बाद कर दिया था। आज इस हमले की 72 वीं वर्षगांठ है। अब तक के इतिहास के इस भयावह हमले में लगभग 74,000 लोगों की दर्दनाक मौत हो गई थी और करीब इतने ही लोग बुरी तरह घायल हो गए थे। हमले के बाद इस शहर में सब-कुछ तहस-नहस हो गया था, जिसे दोबारा संभलने और ठीक करने में काफी वक्त लगा।

हालांकि समय के साथ-साथ नागासाकी के जख्म भरते गए और आज ये फिर से सैलानियों के लिए खास जगह बन चुके हैं। आप भी देखिए, नागासाकी शहर की दस खूबसूरत जगहें-

ये भी पढ़ें- हिरोशिमा पर अमेरिका के परमाणु बम हमले की आज है 72वीं बरसी

26 शहीद संग्रहालय और मूर्तियां

इस म्यूज़ियम और मूर्तियां को उन 26 ईसाई संतों के सम्मान में बनाया गया है, जिन्हें 1597 में निशीज़ाका हिल पर भारी भीड़ के सामने मार दिया गया था। यह जगह इतिहास में दिलचस्पी रखने वाले यात्रियों के लिए परफेक्ट जगह है।

कन्फ्यूशियस मंदिर

यह चीन के बाहर एकमात्र एक ऐसा मंदिर है, जिसे चीनी मजदूरों द्वारा दार्शनिक कन्फ्यूशियस के सम्मान में बनाया गया। मंदिर से लगा हुआ एक संग्रहालय है, जिसमें चीन के इतिहास से जुड़ी चीज़ें प्रदर्शित की गई हैं। यहां महल भी है।

मेगने ब्रिज

इस ऐतिहासिक मेगने पुल का निर्माण 17वीं शताब्दी की शुरुआत में हुआ था। पैरागॉन पत्थरों से बना हुआ यह पुल जापान की संस्कृति से रूबरू करवाता है।

हाशिमा/ गुनकांजिमा

यह एक भुतहा गांव है जो नागासाकी से करीब 15 कि.मी. दूर स्थित है। यह एक औद्योगिक केंद्र था। यहां कोयले की खदानें भी थीं, लेकिन आज की तारीख में यह सिर्फ यात्रियों के आकर्षण की जगह मात्र है। जापान का एक नॉन-प्रॉफिट समूह चाहता है कि यूनेस्को इस जगह को विश्व धरोहर की सूची में शामिल कर ले।

ग्लोवर गार्डन

प्रत्येक वर्ष करीब 20 लाख से भी ज्यादा लोग यहां आते हैं। इसे 1863 में एक कुख्यात स्कॉटिश मर्चेंट थॉमस ब्लेक ग्लोवर के लिए बनाया गया था। यहां पुराने वेस्टर्न स्टाइल में बने हुए घर हैं जो पर्यटकों के आकर्षण के केंद्र हैं।

नागासाकी शांति पार्क और परमाणु बम संग्रहालय

नागासाकी में कई ऐसे स्मारक हैं जो वहां के स्थानीय लोगों के साथ ही पर्यटकों को भी 9 अगस्त, 1945 को हुए हॉलोकास्ट की याद दिलाते हैं। नागासाकी पीस पार्क को देख कर लोगों को यह महसूस होता है कि वो कितना ख़ौफ़नाक मंज़र रहा होगा, जब वहां परमाणु बम गिराया गया। वहां सिबोउ किटामुरा (एक जापानी मूर्तिकार) की अद्भुत मूर्ति अभी भी मौजूद है। पार्क के पास ही एटम बम म्यूज़ियम है, जहां पर्यटकों को कई चीज़ें देखने को मिलती हैं जो हॉलोकास्ट से संबंधित हैं।

नागासाकी इतिहास और संस्कृति का संग्रहालय

हिरोशिमा की तरह नागासाकी को परमाणु बम विस्फोट के बाद दोबारा विकसित होने में काफी वक्त लगा। परमाणु बम विस्फोट के बाद से नागासाकी की पहचान बदल गई, लेकिन इस म्यूज़ियम में शहर के पुराने इतिहास और संस्कृति से संबंधित करीब 50,000 निशानियां बाकी हैं।

माउंट इनासा

नागासाकी की खूबसूरती निहारने के लिए केबल कार से इनासा पहाड़ की चढ़ाई बेहद प्रसिद्ध है। यहां से शहर का अद्भुत नजारा देखने को मिलता है, जो यात्रियों के बीच आकर्षण का केंद्र है।

सुवा तीर्थस्थल

नागासाकी का प्राचार्य शिंटो मंदिर एक प्रमुख मंदिर है। यहां नियमित रूप से त्योहारों पर अतिथियों का स्वागत किया जाता है। प्रत्येक वर्ष 9 अगस्त को एक मेमोरियल सर्विस यहां परमाणु बम के पीड़ितों को विशेष श्रद्धांजलि देने के लिए होती है। कुंची (किसानों का त्योहार) यहां का प्रसिद्ध त्योहार है और 7 से 9 अक्टूबर के बीच इसी मंदिर में इसका आयोजन होता है।

परमाणु बम पीड़ितों के लिए नेशनल पीस मेमोरियल हॉल

यह नागासाकी का सबसे ज्यादा आकर्षण का केंद्र है। इसे 2002 में निर्मित किया गया था। यह जगह एक वास्तुकार अकीरा कुर्यू के दिमाग की उपज है। यहां उस भयानक दिन को याद करते हुए विशेष प्रार्थना की जाती है और सामूहिक शांति व समृद्धि की कामना की जाती है।

Share it
Share it
Share it
Top