आजादी की लौ जलाने वाले मंगल पांडे को आज ही दी गई थी फांसी, जानें क्या है आज खास

आजादी की लौ जलाने वाले मंगल पांडे को आज ही दी गई थी फांसी, जानें क्या है आज खासमंगल पाण्डेय

नई दिल्ली। देश की आने वाली पीढ़ियां आजाद हवा में सांस ले सकें, इसके लिए आजादी के जाने कितने परवानों ने हंसते-हंसते अपनी जान कुर्बान कर दी। आठ अप्रैल का दिन इन्हीं को समर्पित है। 1857 में देश में पहली बार आजादी की मशाल रौशन करने वाले मंगल पांडे को आज के ही दिन फांसी पर लटका दिया गया था।

भारत में धधकती आजादी की आंच पूरी दुनिया तक पहुंचे, इसलिए भगत सिंह और बटुकेश्वर दत्त ने आज के ही के दिन दिल्ली में सेंट्रल एसेंबली हॉल में बम फेंका था। कैलेंडर के हिसाब से आठ अप्रैल साल का 98वां दिन है और अब साल में 267 दिन बाकी बचे हैं।

देश दुनिया में आठ अप्रैल को घटी कुछ प्रमुख घटनाएं इस प्रकार हैं।

1857 : ब्रिटिश भारत की बैरकपुर रेजीमेंट के सिपाही मंगल पांडेय को फौजी अनुशासन भंग करने और हत्या करने के अपराध में फांसी पर चढ़ाया गया।

1894 : भारत के राष्ट्रीय गीत वंदे मातरम् के रचयिता बंकिम चन्द्र चट्टोपाध्याय का कलकत्ता में निधन।

1929 : क्रांतिकारी भगत सिंह और बटुकेश्वार दत्त ने दिल्ली में सेंट्रल असेंबली हॉल में बम फेंका और गिरफ्तारी दी। इस बम धमाके का मकसद किसी को नुकसान पहुंचाना नहीं, बल्कि भारत के स्वतंत्रता आंदोलन की तरफ दुनिया का ध्यान आकृष्ट करना था।

1950 : भारत और पाकिस्तान के बीच लियाकत-नेहरू समझौता हुआ।

1973 : स्पेन के चित्रकार पाब्लो पिकासो का निधन।

2013 : ब्रिटेन की पूर्व प्रधानमंत्री मार्गेरेट थैचर का निधन। जापान में यह दिन बुद्ध के जन्मदिन पर पुष्प उत्सव के रूप में मनाया जाता है।

ये भी पढ़ें- इसी महीने घोषित होंगे यूपी बोर्ड परीक्षाओं के नतीजे 

ये भी पढ़ें- मानसून : ये हैं मौसम के पूर्वानुमान के देसी अलार्म, घटनाएं जो बताती हैं बारिश कैसी होगी ?

ये भी पढ़ें- ‘भारत बंद’ को लेकर फेसबुक या व्हाट्सएप में भड़काऊ पोस्ट और फोटो डालने जा रहे हैं तो ये पढ़ लीजिए

Tags:    Mangal Pandey 
Share it
Top