देश

यूपी का मेरठ जोन बना अपराधियों की कब्रगाह

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के राज में पश्चिम का मेरठ जोन अपराधियों के लिए कब्रगाह बनता जा रहा है। मेरठ जोन में पड़ने वाले जिलों के पुलिस कप्तानों ने अपराधियों पर लगाम लगाने के लिए कमर कस ली है। इस क्रम में अबतक आधा दर्जन से ऊपर बड़े बदमाश या तो ढेर कर दिये गये या उन्हें सलाखों के पीछे भेजने का काम किया गया है।

इस अभियान की अगुवाई कर रहे मैनेजमेंट और एमफील की पढ़ाई कर चुके 1990 बैच के आईपीएस एडीजी मेरठ जोन प्रशांत कुमार का कहना है कि, लूट और डकैती करने वाले अपराधियों के खिलाफ उनके जोन से सटे सभी जिलों के पुलिस कप्तानों को कड़े निर्देश दिए गए हैं। जिस क्रम में चेकिंग के दौरान बदमाश पुलिस पर फायर झोंक दे रहे है, जिसके चलते जवाबी कार्रवाई में इन बदमाशों को पुलिसकर्मी अपनी जान की बाजी लगाकर ढेर कर रहे है।

ये भी पढ़ें : डेढ़ साल से बेटे के क़ातिल को ढूंढते पिता का दर्द सुनिए

पुलिस की इस सक्रियता को देखते हुए अपराधियों के अंदर इस हद तक खौफ बैठ गया है कि, वह अब अपराध छोड़ पुलिस के सामने सरेंडर करने को मजबूर हैं। मेरठ जोन में आने वाले जिलों की अगर बात करे तो अपराधियों पर लगाम लगाने के शामली जिले की अगुवाई कर रहे एसपी अजय पाल शर्मा का खौफ अपराधियों के भीतर कुछ इस कदर कायम हो गया है कि, जहां कुछ महीने पहले शामली में व्यापारियों से रंगदारी मांगने का सिलसिला सा पड़ चला था, लेकिन बदमाशों के खिलाफ कठोर कार्रवाई होती देख दूसरे अपराधियों को सरेंडर करने पर मजबूर कर दिया है।

वहीं मेरठ जोन में पड़ने वाला जिला सहारनपुर की बात करे तो यहां की सुरक्षा व्यवस्था की कमान एसपी बबलू कुमार के हाथ में है। बबलू कुमार ने भी युद्ध स्तर पर बदमाशों के खिलाफ अभियान छेड़ रखा है, जिस क्रम में उनकी अगुवाई में सहारनपुर पुलिस ने कई बदमाशों को या तो मुठभेड़ में मार गिराया या उन्हें सलाखों के पीछे भेजने के लिए मजबूर कर दिया।

ये भी पढ़ें : फर्जी बाबाओं के गहरे सियासी संबंध

तीसरे नम्बर पर जोन का मुजफ्फरनगर जिला आता है, जहां एसपी अन्नत देव की अगुवाई में कई बड़े बदमाशों को मुठभेड़ में मार गिराया। मेरठ जोन में होते इन मुठभेड़ों को देख दूसरे जोन के एडीजी स्तर के अधिकारियों की सांसे फूल गई हैं, जिसके चलते वह लोग भी अपने-अपने जोन में लगने वाले जिलों के पुलिस कप्तानों को बदमाशों पर कड़ी कार्रवाई के लिए लगातार निर्देश दे रहे हैं। वहीं मेरठ जोन की बाते करे तो बीते महीने से अबतक यहां होने वाले बड़े अपराधों में गिरावट आई है,जिसकी बानगी बदमाशों के साथ लगातार हो रहे मुठभेड़ गवाही देते नजर आ रहे हैं।

मेरठ जोन की कमान संभालते ही अपराधियों को दी चेतावनी

एडीजी मेरठ जोन का चार्ज संभालते ही प्रशांत कुमार ने कड़े लहजे में मीडिया के माध्यम से अपराधियों को चेतावनी दे थी कि, वह अपराधिक घटना करने से बाज आये या तो अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहे। प्रशांत कुमार के तेवर देख उनके मातहतों का भी मनोबलब बढ़ा और जोन में पड़ने वाले नौ जिलों के पुलिस कप्तानों ने अपराधियों के खिलाफ अभियान चलाकर उनकी धर-पकड़ शुरू कर दी। एडीजी प्रशांत कुमार ने कहा , "सुरक्षा की दृष्टि से हर बिंदु पर उनकी निगाह है। मेरठ जोन में अपराध कंट्रोल होगा। इसके लिए पुलिस बेहतर तालमेल बैठाकर काम करेगी। उन्होंने कहा, लोगों में पुलिस के लिए विश्वास पैदा हो उसके लिए अपराधियों की धरपकड़ और अपराध का जड़ से खात्मा करना होगा, जिसके लिए पुलिस को दिन रात एक करना पड़ेगा।

ये भी पढ़ें : डॉक्टरों ने बयां की अपनी परेशानी, कहा- एक डॉक्टर को करना पड़ता है चार के बराबर काम