आजादी के बाद लातूर से पहली बार चुनाव हारी कांग्रेस, फडणवीस फिर बने हीरो

आजादी के बाद लातूर से पहली बार चुनाव हारी कांग्रेस, फडणवीस फिर बने हीरोदेवेन्द्र फडणवीस, मुख्यमंत्री, महाराष्ट्र।

मुंबई। पिछले पांच सालों से सूखा प्रभावित लातूर एक बार फिर से चर्चाओं में है। इस बार पानी की नहीं बल्कि निकाय चुनाव में भाजपा की जीत की है। दरअसल लातूर में आजादी के बाद से अब तक कांग्रेस का ही शासन रहा है लेकिन इस बार भाजपा ने पहली बार यहां से जीत हासिल की है। पार्टी इस जीत का श्रेय सीएम देवेंद्र फडणवीस को दे रही है।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

लातूर में कुल 70 सीटों में से बीजेपी को 36, कांग्रेस को 33 और एनसीपी को 1 सीट मिली है। परभणी में कांग्रेस आगे रही है लेकिन किसी पार्टी को बहुमत प्राप्त नहीं हुआ है। यहां कुल 65 सीटों में से कांग्रेस को 29, बीजेपी को 8, शिवसेना को 6 और आईएनडी को 2 सीटें मिली हैं। चंद्रपूर की बात करें तो यहां से भी बीजेपी ने 38 सीटों के साथ बाजी मार ली है। उसके बाद कांग्रेस को 14, बीएसपी को 7, एनसीपी, शिवसेना और आईएनडी को 2—2 सीटें प्राप्त हुई हैं। एक सीट पर फिलहाल नतीजे नहीं आए हैं। यहां कुल 66 सीटों पर मतदान हुआ था।

बता दें कि हाल के महीनों में ग्रामीण इलाकों में हुए स्थानीय निकाय चुनावों में बीजेपी ने बंपर प्रदर्शन किया था। इस बार भी बीजेपी के प्रदर्शन पर सबकी निगाहें थीं। मुख्यमंत्री ने तीनों महापालिका चुनावों में जमकर प्रचार किया था। अभी तक परभणी में एनसीपी, लातूर में कांग्रेस और चंद्रपूर में बीजेपी की सत्ता कायम थी।

परभणी और चंद्रपुर महापालिका चुनाव 19 अप्रैल को हुआ था। चंद्रपुर में 57 फ़ीसदी, परभणी में 70 फ़ीसदी और लातूर में 60 फ़ीसदी वोटिंग हुई थी। कुल क़रीब 62 फ़ीसदी लोगों ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया था।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top